UttarakhandDIPR

… नहीं रहे जन सरोकारों के मुख्य हस्ताक्षर विमल भाई

वरिष्ठ पत्रकार महिपाल नेगी की वाल से


विभिन्न जन आंदोलनों में देश भर में सक्रिय रहे गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता विमल भाई का आज दिल्ली एम्स में निधन हो गया।
करीब 60 वर्षीय विमल भाई पिछले कुछ समय से अस्वस्थ थे और 10 अगस्त से दिल्ली एम्स में इलाज चल रहा था।
टिहरी बांध विस्थापितों के संघर्ष में उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय तक में विस्थापितों का साथ दिया। केदारनाथ आपदा का मामला भी ग्रीन ट्रिब्यूनल में उठाया।
पहाड़ में विस्थापन और आपदाओं के मामलों पर वे हमेशा मुखर रहे। उन्होंने “माटू” संगठन का निर्माण भी किया।
जन आंदोलनों के राष्ट्रीय समन्वय से भी जुड़े रहे। मेधा पाटकर, सुंदर लाल बहुगुणा, बी डी शर्मा, अरुणा राय और हर्ष मंदर जैसे समाज सेवियों के निकट सहयोगी रहे।
देश भर में विस्थापन के खिलाफ पुनर्वास की लड़ाई लड़ने वाले लाखों लोगों के लिए उनका निधन अपूरणीय क्षति है।
विनम्र श्रद्धांजलि।

स्वर्गीय विमल भाई

कमल नारायण रतूड़ी

दुःखद , नेगी जी मेरा भी माटू भाई से कई साल पहले बहुत ही आत्मीय संपर्क हुआ था, जिस दौरान मै राजस्व विभाग में पटवारी के पद पर तहसील घनसाली में कार्यरत था ।उसी दौरान घनसाली के निकट फलेंडा गांव में एक निजी कंपनी बांध का निर्माण कर रही थी जिसका ग्रामीण अपने अपने कारणों से विरोध कर रहे थे तो हम अपनी ड्यूटी वहां निभा रहे थे ।जबकि दूसरे पक्ष से विमल भाई बहुत ही गांधीवादी तरीके से ग्रामीणों का साथ देते हुए अपनी बातों को रख रहे थे ।

उनका विरोध करने का तरीका ,अपना पक्ष रखने का तरीका बहुत ही प्रभावी और वैज्ञानिक था और जब मुझे व्यक्तिगत रुप से उनसे बात करने का मौका मिला तो पता चला कि वह दिल्ली में रहते हैं और एक उच्च शिक्षित व्यक्ति हैं और अगर वह चाहते तो एक ऐसो आराम भरा जीवन यापन कर सकते थे ,किंतु फिर भी वह इसी तरह आमजन के आंदोलन में सक्रिय रहते थे ।हालांकि मैं व्यक्तिगत रूप से उस समय उनसे सहमत नहीं था लेकिन अपनी ऐशोआराम भरी जिंदगी को छोड़कर ग्रामीण अंचलों में इस तरह से आम लोगों के साथ संघर्ष करना कहीं ना कहीं इस तरह के व्यक्तियों को महान बनाता है । मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं।

Pls clik

भर्ती घोटाले में एक एक अपराधी को पकड़ा जाएगा – सीएम धामी

Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content of this site is protected under copyright !!