zydex

इस ‘बेमौसमी छुट्टी’ का मुख्य किरदार कौन? जिला प्रशासन या मौसम विभाग !

भारी बारिश को आधार बना कर डीएम दून ने सोमवार को स्कूलों में कई छुट्टी, लेकिन एक बूंद भी पानी नहीं बरसा. शिक्षक दिवस 5 सितम्बर को भी बिल्कुल ऐसा ही हुआ था.विभाग ने कहा 26 सितम्बर के लिए कोई चेतावनी नहीं दी थी

अविकल उत्तराखंड

देहरादून। इतिहास स्वंय को दोहराता है लेकिन उत्तराखंड के मौसम विभाग की भविष्यवाणी व जिला प्रशासन के ‘खराब मौसम’ के मद्देनजर लिए गए छुट्टी के फैसले से एक बार फिर कई सवाल खड़े हो गए हैं।

मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह का कहना है कि उन्होंने 26 सितम्बर के लिए कोई चेतावनी नहीं दी थी। देहरादून की डीएम ने एहतियात के तौर पर स्कूल बंद किये हैं।

25 सितम्बर को मौसम विभाग के निदेशक की ओर से जारी मौसम के पूर्वानुमान में 26 सितम्बर को राज्य कर कुछ जिलों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना जतायी गयी है। यही नही,25 सितम्बर की रात्रि 9 बजे कुछ घण्टों का बारिश अलर्ट जारी किये जाने की भी सूचना जारी करने की बात सामने आ रही है। हालांकि, इस पूरे मामले में 25 सितम्बर की रात मौसम विभाग के देहरादून के बाबत किये गए अलर्ट को भी देखा जाना जरूरी है। 25 सितम्बर की देर रात तक देहरादून में काफी बारिश हुई थी। weather department denied any heavy rain alert

लिहाजा डीएम के निर्देश के बाद देर रात 12 बजे मुख्य शिक्षा अधिकारी मुकुल सती की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि 26-09-2022 को महाराजा अग्रसेन जयंती के उपलक्ष्य पर विदयालय पूर्व से ही बंद हैं .. साथ ही ज़िला अधिकारी देहरादून द्वारा मुझे यह कहने के निर्देश प्राप्त हुए है कि भारी वर्षा एवं छात्र छात्राओ के सुरक्षा के दृष्टिगत भी दिनांक 26-09-2022 को समस्त शिक्षण संस्थान, शासकीय, आशस्कीय निजी विदयालय, पूर्णतः बंद रहेंगे..

आदेश में अग्रसेन जयंती पर 26 सितम्बर को स्कूल पूर्व से बंद होने की भी बात कही गयी है।

26 सितम्बर को दून में खिली चटख धूप

26 सितम्बर को भी दून का आसमान पूरी तरह खुला रहा। रात 9 बजे तक भी बारिश के कोई आसार नजर नहीं आये। 5 सितम्बर व 26 सितम्बर को भारी बारिश को आधार बना कर की गई छुट्टी भी जगहंसाई की मुख्य वजह बन गयी है।

इस चर्चित मौसम प्रकरण पर डीएम सोनिका से बात करने की कोशिश की गई लेकिन उनका मोबाइल उठा नहीं। जब भी उनका कोई वक्तव्य इस ‘बेमौसमी छुट्टी’ पर आएगा,तत्काल प्रकाशित किया जाएगा।

गौरतलब है कि 5 सितम्बर शिक्षक दिवस को भी डीएम सोनिका के आदेश पर देहरादून के स्कूल बंद किये थे। लेकिन 5 सितम्बर को दून में धूप खिली रही। उस समय भी मौसम विभाग की भविष्यवाणी और डीएम के निर्णय को लेकर मीडिया में विशेष हलचल देखी गयी थी।

मौसम विभाग व जिला प्रशासन के बीच संवादहीनता भी एक मुख्य वजह मानी जा रही है। या फिर मौसम के अलर्ट के परीक्षण को लेकर भी कहीं न कहीं कोई भारी कमी दिख रही है। इस बेईमान मौसम के लिए दोषी जिला प्रशासन का फैसला है या मौसम विभाग की भविष्यवाणी। कौन सही और कौन गलत। देहरादून से लेकर दिल्ली तक इस ‘मौसम’ का पोस्टमार्टम अब बहुत जरूरी हो गया है। ताकि बेवजह स्कूल बंदी न हो।

डीएम के आदेश के बाद शिक्षा विभाग की छुट्टी का आर्डर

समस्त प्रधानाचार्य राoइoकाo राoउoमाoवि0,राo प्राo विo,रा0 जूनियर, अशासकीय शासकीय विदयालय (जूनियर /माध्यमिक )/ निजी विदयालय / आंगनवाडी केंद्र/मदरसे को अवगत कराना है, कि जैसा की आप विज्ञ है कि कल दिनांक 26-09-2022 को महाराजा अग्रसेन जयंती के उपलक्ष्य पर विदयालय पूर्व से ही बंद हैं .. साथ ही ज़िला अधिकारी देहरादून द्वारा मुझे यह कहने के निर्देश प्राप्त हुए है कि भारी वर्षा एवं छात्र छात्राओ के सुरक्षा के दृष्टिगत भी दिनांक 26-09-2022 को समस्त शिक्षण संस्थान, शासकीय, आशस्कीय निजी विदयालय, पूर्णतः बंद रहेंगे.. अतः उक्त के क्रम में संबंधित संस्थाध्यक्षो को निर्देशित किया जाता है की उक्त आदेश का कड़ाई के साथ अनुपालन करना सुनिश्चित करें. डॉ मुकुल कुमार सती मुख्य शिक्षा अधिकारी देहरादून

25 सितम्बर 2022- 5.30 बजे सांय मौसम की भविष्यवाणी

questions raised on dm decisions of school holiday due to bad weather

Pls clik- भारी बारिश से 5 सितम्बर को भी हुई थी छुट्टी

मौसम की गलत भविष्यवाणी ने बच्चों के अरमानों पर फेरा पानी

Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *