UttarakhandDIPR

कृषि बिल के विरोध में राजभवन कूच कर रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने रोका


पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच जमकर धक्का-मुक्की
बीच सड़क में धरने पर बैठ गए कांग्रेसी, मोदी सरकार और भाजपा के खिलाफ नारेबाजी

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। केंद्र सरकार की नीतियों तथा संसद में पास कृषि बिलों के विरोध में सोमवार को प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में राजभवन कूच कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस ने राजभवन से पहले ही रोक लिया। इस दौरान पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच खूब धक्का-मुक्की हुई। कांग्रेसियों ने बीच सड़क में धरने पर बैठकर मोदी सरकार और भाजपा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।


सोमवार को कांग्रेस के देशभर में प्रस्तावित प्रदर्शन के तहत देहरादून में भी कार्यकर्ता सुबह 10 बजे से ही कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में जुटना शुरू हो गए थे। कांग्रेस मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने केंद्र की मोदी सरकार को किसान विरोधी करार देते हुए कहा कि संसद के बीते मानसून सत्र में पास किए गए तीन काले कानून देश के 65 करोड़ किसानों को गुलाम बनाने की बड़ी साजिश है। यदि देश में एमएसपी प्रणाली ही समाप्त हो जाएगी तो किसान अपनी फसल का मूल्य किस प्रणाली से तय करेगा। उन्होंने कहा कि अनाज व सब्जी मंडी समाप्त कर किसान को पंगु बनाने की साजिश है । आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 में संशोधन कर मोदी सरकार ने जमाखोरी व कालाबाजारी को कानूनी रूप से वैध बना दिया।
कार्यकर्ताओं को सांसद प्रदीप टम्टा, पूर्व पीसीसी अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, विधायक ममता राकेश, प्रदेश उपाध्यक्ष रंजीत रावत, प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना, विधायक मनोज रावत, पूर्व विधायक विजयपाल सजवाण, पूर्व विधायक राजकुमार, किसान नेता धर्मपाल और जिला पंचायत रुद्रप्रयाग की पूर्व अध्यक्ष लक्ष्मी राणा ने भी संबोधित किया।


सवा 12 बजे कांग्रेस मुख्यालय से कांग्रेस का राजभवन कूच शुरू हुआ, जो राजपुर रोड, दिलाराम बाजार से होता हुआ हाथीबड़कला पहुंचा। हाथीबड़कला में भारी पुलिस बल ने बैरिकेडिंग लगाकर प्रदर्शनकारियों को रोक लिया। इस दौरान पुलिस और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में धक्का-मुक्की हुई। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह व अन्य नेता सड़क में धरने पर बैठ गए और मोदी सरकार तथा भाजपा के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। करीब पौने दो बजे एडीएम प्रशासन प्रदर्शनकारियों के बीच आए। प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने उनके माध्यम से राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा।


राजभवन कूच में पूर्व राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी, पूर्व कैबिनेट मंत्री हरीश दुर्गापाल, शूरवीर सिंह सजवाण, दिनेश अग्रवाल, मंत्री प्रसाद नैथानी व मातबर सिंह कण्डारी, हाजी फुरकान, महिला कांग्रेस अध्यक्ष सरिता आर्य, सेवादल अध्यक्ष राजेश रस्तोगी, पूर्व विधायक रणजीत सिंह रावत, गणेश गोदियाल, शैलेंद्र रावत, जोत सिंह गुनसोला, रामयश सिंह, नारायण पाल, उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट, महामंत्री संजय पालीवाल, विजय सारस्वत, महेश शर्मा, ताहिर अली, हरिकृष्ण भट्ट, लक्ष्मी राणा सहित सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content of this site is protected under copyright !!