चौड़ीकरण के तीन साल बाद भी नहीं हो सका चैराहे का सौंदर्यीकरण

कोटद्वार:  नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 534 पर नजीबाबाद चैक (लालबत्ती चैक) के चैड़ीकरण का कार्य पूरा हुए तीन साल हो चुके हैं, लेकिन चैराहे का सौंदर्यीकरण अभी तक नहीं हो सका है। चैराहे के सौंदर्यीकरण के लिए अभी तक बजट नहीं मिला, जिससे चैराहे में यातायात संचालन में पुलिस को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

कोटद्वार नगर निगम प्रशासन की ओर से अगस्त 2017 में यातायात व्यवस्था को सुधारने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग पर नजीराबाद चैक के चैड़ीकरण का कार्य शुरू किया गया था। इसके तहत सड़क को 18 मीटर चैड़ा किया जाना था। राष्ट्रीय राजमार्ग अथॉरिटी ने सरकारी स्कूल की दीवार तोड़कर सड़क को चैड़ा किया। अतिक्रमण हटाने के लिए नगर निगम और राष्ट्रीय राजमार्ग अथॉरिटी को चैड़ीकरण के लिए मशक्कत करनी पड़ी। सड़क का चैड़ीकरण तो हो गया, लेकिन मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप अभी तक चैराहे का सौंदर्यीकरण नहीं किया गया। चैराहे के खुलने के बाद मार्ग पर वन वे व्यवस्था लागू होने के बावजूद भी जाम की स्थिति बन रही है।

सौंदर्यीकरण के तहत लाल बत्ती चैराहे पर चबूतरे का निर्माण, निकासी नाली, फुटपाथ और चक्रवर्ती सम्राट भरत की मूर्ति लगाना प्रस्तावित हुआ था। सौंदर्यीकरण के लिए नगर निगम ने डिजाइन तैयार कर स्वीकृति के लिए भेजा है लेकिन मामला आगे नहीं बढ़ा। पूरे मामले में नगर आयुक्त का कहना है कि चैराहे के डेवलपमेंट के लिए नगर निगम के पास धन की कमी है। जैसे ही धन की प्राप्ति होती है तो चैराहे के डेवलपमेंट का कार्य किया जाएगा।

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.