UttarakhandDIPR

अयोध्या में अकेले श्री राम की पूजा अधूरी
सीता की भी भव्य मूर्ति बने :डॉ कर्ण सिंह


मंदिर में भव्य शिवलिंग की स्थापना हो

अविकल उत्तराखंड ब्यूरो

क्या अयोध्या में फिर सीता जी को वनवास दिया जाएगा ? यह सवाल पूछा है डॉ कर्ण सिंह ने। कांग्रेस कोर कमेटी के चेयरमैन डॉ कर्ण सिंह ने 5 अगस्त को अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर के  भूमि पूजन से पहले अपने सुझाव रख एक नयी बहस को जन्म दे दिया है। मंगलवार को जारी बयान के बाद यह मुद्दा मीडिया की सुखियाँ बन गया है।

डॉ कर्ण सिंह ने बाकायदा एक प्रेस नोट जारी कर सुझाव दिया कि अयोध्या में सिर्फ राम की पूजा अधूरी मानी जायेगी। लिहाजा राम व सीता दोनों की मुख्य मूर्ति बनाई जाय। सिर्फ अकेले राम की पूजा अधूरी मानी जायेगी।

उन्होंने यह भी आशंका जतायी कि क्या अयोध्या में फिर सीता के साथ अन्याय होगा। सीता को फिर वनवास भेजा जाएगा।

दूसरा सुझाव देते हुए डॉ कर्ण सिंह ने कहा कि मंदिर में भव्य शिवलिंग की स्थापना होनी चाहिए। अपने इस सुझाव के समर्थन में डॉ कर्ण सिंह ने कहा कि लंका में चढ़ाई से पहले और विजय के बाद राम ने शिव भगवान की पूजा की थी।


रामेश्वरम में शिव का भव्य मंदिर इस बात का स्थायी प्रमाण है।

डॉ कर्ण सिंह ने कहा कि वे रघुवंशी है और उनके पूर्वजों ने जम्मू में रघुनाथ जी का भव्य मंदिर बनाया है। डॉ कर्ण सिंह ने कहा कि वे भी उनकी पूजा करते है जिनकी पूजा राम ने की थी।

Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews

One thought on “अयोध्या में अकेले श्री राम की पूजा अधूरी
सीता की भी भव्य मूर्ति बने :डॉ कर्ण सिंह

  1. इस तरह की सोच सिर्फ पढ़े लिखे समझदार लोगों में ही होती हैं। अनपढ़ और अंगूठा टेक लोगों से क्या उम्मीद करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content of this site is protected under copyright !!