संधु ने संभाली शासन की बागडोर, पुलिस महकमे में फेरबदल की चर्चा

शासन में जारी फेरबदल पर सता के गलियारों में अटकलबाजी

योजना के आउटकम पर ध्यान नहीं दिया जाता-मुख्य सचिव संधु

आईएएस आंनद वर्द्धन बने सीएम के अपर मुख्य सचिव

1990 बैच के आईपीएस वी विनय कुमार की प्रदेश शीर्ष नेतृत्व से हुई मुलाकात। नयी जिम्मेदारी को लेकर सुगबुगाहट

1996 बैच के तेजतर्रार आईपीएस व मौजूदा ADG अभिनव कुमार को मिल सकती है नयी जिम्मेदारी

अविकल उत्त्तराखण्ड


देहरादून। नया मुख्यमन्त्री… नया मुख्य सचिव और अब पुलिस-प्रशासन में फेरबदल की चर्चा गर्म है। भाजपा केंद्रीय नेतृत्व व सीएम धामी ने उत्त्तराखण्ड के शासन -प्रशासन में फेरबदल को लेकर होमवर्क शुरू कर दिया है। जिले के डीएम व एसएसपी के भी बदले जाने की पूरी संभावना है। पुलिस मुख्यालत में तैनात अफसरों का कद बढ़ाया जा सकता है।

गौरतलब है कि रामनगर चिंतन बैठक में शासन में फेरबदल को लेकर गंभीर मंथन हुआ था। अधिकारियों को हाईकोर्ट की फटकार के बाद सरकार की भी जमकर किरकिरी हो रही थी। मुख्य सचिव ओमप्रकाश को हटाने के बाद शासन व जिलों में बैठे कई चर्चित अधिकारियों को जल्द ही हटाये जाने के आसार हैं।इधर,वरिष्ठ आईआएस आनन्द वर्द्धन को सीएम का अपर मुख्य सचिव बनाया गया है।

पुष्ट सूत्रों के मुताबिक 1990 बैच के आईपीएस विनय कुमार की जिम्मेदारी में इजाफा हो सकता है। उत्त्तराखण्ड कैडर के आईपीएस विनय कुमार ने लंबा समय आईबी में बिताया। 21 साल प्रदेश के बाहर सेवा देने के बाद 2017 में उत्त्तराखण्ड लौटे थे। लेकिन तीन साल बाद फिर सितम्बर 2020 में आईपीएस वी विनय कुमार प्रतिनियुक्ति पर केंद्र में चले गए थे। लेकिन कुछ महीने पहले उत्त्तराखण्ड लौटकर डीजी विजिलेंस की जिम्मेदारी सँभाल रहे हैं। इधर, लंबी छुट्टी के बाद बंगलौर निवासी आईपीएस वी विनय कुमार दो दिन पहले ही देहरादून लौटे। पुष्ट सूत्रों के मुताबिक वी विनय कुमार की मंगलवार को उच्च पदस्थ सूत्रों से मुलाकात हुई।

सूत्रों के मुताबिक 1990 बैच के आईपीएस वी विनय कुमार को उत्त्तराखण्ड पुलिस में नई जिम्मेदारी देने को लेकर दिल्ली व देहरादून में मंथन चल रहा है। वी विनय कुमार 1990 बैच के आईपीएस हैं।

1990 बैच की IPS वी विनय कुमार को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी

इसके अलावा 1996 बैच के तेजतर्रार आईपीएस व मौजूदा ADG अभिनव कुमार को सीएम आफिस में बड़ी जिम्मेदारी मिलने की भी चर्चा है। अभिनव कुमार की गिनती बोल्ड अधिकारियों में की जाती है। त्रिवेंद्र राज में सेक्स स्कैंडल में फंसे भाजपा विधायक महेश नेगी के मामले में देहरादून पुलिस के पीड़िता को चार्जशीट सौंपे जाने के फैसले को रातों रात पलट दिया था। और चार्जशीट वापस लेने के अलावा जांच अधिकारी ही बदल दिए थे।

आईपीएस अभिनव कुमार

उन्होंने जांच को पौड़ी जिले के महिला थाने में ट्रांसफर कर दी थी। इस मुद्दे पर तत्कालीन सत्ता के शीर्ष पर बैठे लोग गढ़वाल IG अभिनव कुमार से नाराज भी हो गए थे। लेकिन उस समय आईपीएस अभिनव कुमार के फैसले की सभी ने तारीफ की थी।

उधर, नये मुख्य सचिव ने मंगलवार को कार्यभार ग्रहण कर अपनी प्राथमिकता भी गिना दी है। अभी तक मुख्य सचिव रहे ओमप्रकाश राजस्व परिषद की जिम्मेदारी संभालेंगे।

इस बीच, शासन में हुए फेरबदल के क्रम में वरिष्ठ आईआएस आनन्द वर्द्धन को सीएम का अपर मुख्य सचिव बनाया गया है। वर्द्धन 1992 बैच के आईएएस हैं।

नये मुख्य सचिव संधू ने कार्यभार संभाला

नवनियुक्त मुख्य सचिव सुखबीर सिंह संधू ने मंगलवार को सचिवालय में उत्तराखण्ड के नए मुख्य सचिव के रूप में अपना पदभार ग्रहण किया। मुख्य सचिव संधू ने निवर्तमान मुख्य सचिव ओमप्रकाश से कार्यभार ग्रहण किया। कार्यभार ग्रहण करने के बाद मुख्य सचिव संधू ने शासन के उच्चाधिकारियों सहित अपर सचिव स्तर तक के अधिकारियों के साथ बैठक की।

नये मुख्य सचिव एस एस संधु – मंगलवार को संभाली नयी जिंम्मेदारी


मुख्य सचिव एस.एस. संधू ने कहा कि जनकल्याणकारी योजनाओं को धरातल पर उतारा जा सके और उन योजनाओं का लाभ अधिक से अधिक लोग ले सकें, हमें इसके प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि प्रत्येक योजना एक बहुत अच्छे उद्देश्य के साथ शुरू की जाती है, परन्तु योजना के पूर्ण होने के बाद उसका आउटकम क्या रहा, इस पर ध्यान नहीं दिया जाता। उन्होंने कहा कि किसी योजना के पूर्ण होने से उस योजना के उद्देश्यों को प्राप्त किया जा सका या नहीं इस पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।

पहली पहली बैठक नये मुख्य सचिव ने ली


मुख्य सचिव ने कहा कि योजनाओं का लाभ समय से जन सामान्य को मिल सके इसके लिए फाईलिंग सिस्टम को छोटा किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी फाईल को कम से कम स्तरों में जाना पड़े इसके प्रयास किए जाएं। हमारे पास सभी स्तरों पर बुद्धिमान, मेहनती एवं समझदार लोग उपलब्ध हैं। उन पर विश्वास करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि अधीनस्थों को अपने स्तर पर फाईलों के निस्तारण के लिए जिम्मेदारी दी जानी चाहिए ताकि फाईलों के निस्तारण में में तेजी लायी जा सके। अनुभाग अधिकारी स्तर तक लगातार बैठकें आयोजित की जानी चाहिए ताकि योजनाओं का लाभ अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके।


मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड के कारण रोजगार सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। राज्य सरकार के प्रयास रहेंगे कि अधिक से अधिक रोजगार उत्पन्न किया जाए। कोविड के प्रकोप पर राज्य में स्थिति में सुधार हुआ है। इसे बनाए रखने के लिए हम सभी के द्वारा लगातार सावधानियां बरते जाने की आवश्यकता है।


इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, आनन्द वर्धन, श्रीमती मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव आर. के. सुधांशु सहित सचिव एवं अपर सचिव स्तर के समस्त अधिकारी उपस्थित थे।

Pls clik

मंत्रियों को नये सिरे से सौंपी जिलों की जिम्मेदारी, देखें सूची

आसान नहीं कामरेड कमला राम नौटियाल हो जाना: समर भंडारी

अपनी प्रतिक्रिया साझा करे

error: Content of this site is protected under copyright !!