साइबर सेंटर में एसटीएफ का छापा, 4 बंदी, धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

आरोपियों के कब्जे से 20 लेपटाॅट, दो डेस्कटाॅप, तीन मोबाइल फोन, एक आई-20 कार और कुछ महत्वूपर्ण दस्तावेज बरामद

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। एसटीएफ ने राजधानी के आईटी पार्क क्षेत्र संचालित एक साइबर सेंटर Trek now Travel में छापा मारकर चार लोगों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 20 लेपटाॅप, दो डेस्कटाॅप, तीन मोबाइल फोन, एक आई-20 कार और कुछ महत्वूपर्ण दस्तावेज बरामद किए हैं।

पुलिस उपमहानिरीक्षक नीलेश आंनद भरणे ने बताया कि आरोपी यूएस एजेंट बनकर अमेरिकी नागरिकों से धोखाधड़ी करते थे।
उत्तराखंड एसटीएफ को सूचना मिली कि आईटी पार्क क्षेत्र से करीब तीन माह से संचालित एक साइबर सेंटर के संचालक यूएस एजेंट बनकर अमेरिकी नागरिकों से धोखाधड़ी कर रहे हैं। पहले वे अमेरिकी नागरिकों को फर्जी गिरफ्तारी वारंट की धमकी देते हैं और फिर इसी गिरोह की एक अन्य टीम कानूनी मदद देने की एवज में उनसे धोखाधड़ी करते हैं।


उन्होंने बताया कि इस सूचना पर एसटीएफ ने आज यहां एक निजी भवन में संचालित ट्रेकनाउ ट्रेवल्स के यहां छापा मारकर चार लोगों, आईटी हेड दीपक निवासी उत्तम नगर, दिल्ली, सिमोन निवासी पालम, दिल्ली, गगन निवासी महेंद्र नगर, नेपाल और मोनू को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से 20 लेपटाॅट, दो डेस्कटाॅप, तीन मोबाइल फोन, एक आई-20 कार और कुछ महत्वूपर्ण दस्तावेज बरामद किए हैं।
एसटीएफ की जांच में पता चला है कि इस गिरोह में कुल 15-16 लोग हैं।


दीपक और सिमोन ने डीआईटी काॅलेज के पास इम्परियल हाइट और गौरव पैसेफिक हिल में किराए के फ्लैट में रहता है। इन लोगों ने स्टाॅफ के लिए मालसी में 11 कमरे किराए पर ले रखे हैं। एसटीएफ इनसे पूछताछ कर रही है।

देर रात, एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि अब तक की पूछताछ में कॉल करके US सिटीजन को ड्रग्स और गलत समान की डिलीवरी की बात कर एक्सटॉर्शन किया जाता था, वारंट इशू हो गया ये भी कहा जाता था,usa में साइबर फ्रॉडेस्टर्स सब detail उपलब्ध कराते थे,उसके बदले में कमीशन फिक्स था।

Pls clik

नैनो यूरिया का उत्पादन उत्त्तराखण्ड के लिए वरदान-सुबोध उनियाल

अपनी प्रतिक्रिया साझा करे

error: Content of this site is protected under copyright !!