#

सरकारी इलाज से असंतुष्ट पूर्व मंत्री गांववासी जॉलीग्रांट अस्पताल में हुए भर्ती

रविवार की सुबह दून मेडिकल कालेज में उचित इलाज नहीं होने पर पूर्व मंत्री गांववासी ने शाम को निजी मेडिकल कालेज का किया रुख

अविकल उत्तराखण्ड

देहरादून। दून मेडिकल कालेज में बेहतर इलाज नहीं मिलने पर पूर्व मंत्री मोहन सिंह रावत गांववासी को जॉलीग्रांट अस्पताल का रुख करना पड़ा।

मिली जानकारी के मुताबिक न्यूरो की समस्या होने पर पूर्व मंत्री गांववासी रविवार की सुबह 7 बजे दून मेडिकल कालेज में भर्ती हुए थे। उन्हें शरीर के बाएं हिस्से में पक्षाघात की शिकायत थी।

इस दौरान उन्हें दून मेडिकल कालेज के जिस कक्ष में भर्ती किया गया। वो बेहद ठंडा था। मांगने पर हीटर व ब्लोअर की भी व्यवस्था नहीं की गई। पूर्व मंत्री के तीमारदारों का कहना है कि न्यूरो से सम्बंधित चिकित्सक भी उनके परीक्षण के लिए उपलब्ध नहीं हुए।

अलबत्ता मेडिकल कालेज के प्रिंसिपल उन्हें देखने अवश्य आये। लेकिन फिर भी पूर्व मंत्री को उनकी बीमारी से जुड़े एक्सपर्ट चिकित्सकीय सुविधाएं नहीं मिली।

काफी इंतजार के बाद भी पूर्व मंत्री को न्यूरो से सम्बंधित समुचित इलाज मुहैया नहीं होने पर वे दोपहर बाद जॉलीग्रांट अस्पताल में भर्ती हो गए।

पूर्व मंत्री गांववासी की हालत स्थिर है। और जॉलीग्रांट में चल रहे इलाज में उनके शरीर के बाएं हिस्से में हल्के पक्षाघात की पुष्टि हुई है। जॉलीग्रांट में मिल रही चिकित्सकीय सुविधाओं से पूर्व मंत्री गांववासी के तीमारदार संतुष्ट बताए जा रहे हैं।

गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व जोशीमठ दौरे के दौरान नंगे पांव नरसिंह मंदिर की सीढ़ियां चढ़ने से पूर्व मंत्री की तबियत नासाज हो गयी थी। भाजपा शासन में कैबिनेट मंत्री रहे गांववासी की गिनती निष्ठावान व ईमानदार नेताओं में होती रही है।

इधर, जॉलीग्रांट अस्पताल में भाजपा नेत्री व वरिष्ठ आंदोलनकारी सुशीला बलूनी भी भर्ती हैं।

Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *