…जब राकेश को बाबा केदार के आंगन में 25 लाख की अंगूठी मिली। uttarakhand kedarnath

बाबा केदार धाम में काम करने वाले राकेश रावत को चमकदार अंगूठी मिलती है। वह उलट पुलट कर देखता है। 25 लाख कीमत की अंगूठी। किसी को भी लालच आ सकता है लेकिन राकेश रावत असली मलिक की तलाश करता है  और फिर… पढ़िये पूरी कहानी राजन रावत की कलम से। ”पहाड़ की भूली बिसरी यादें ‘ में-

केदारनाथ।
राकेश को 25लाख की अंगूठी मिली । जब तक अंगूठी को उसके मालिक तक पहुंचाया नही तब तक चैन से सो नही पाया, उत्तराखंड का ये लाल ।कहते है बाबा केदार की नगरी में एक असीम शक्ति है।

Uttarakhand kedatnath

गांव  रामपुर न्यालसू  के राकेश रावत  जो केदारनाथ में काम कर रहे थे ।  विगत कुछ दिन पहले राजस्थान से यात्रा करने आये श्रद्धालु की केदारनाथ में खोयी अंगूठी मिली। अंगूठी की कीमत लगभग 25 लाख थी। वह अंगूठी राकेश रावत को मिली ।

Uttarakhand kedarnath

उन्होंने यात्री से सम्पर्क कर उनकी बहुमूल्य अंगूठी उन्हें वापस कर दी। राकेश रावत की ईमानदारी से प्रभावित होकर उक्त श्रद्धालु ने राकेश रावत को नकद 51000रू ईनाम में दिये। देवभूमि के ऐंसे लाल को प्रणाम। यही है असली उत्तराखंड यही है यहाँ की मिट्टी की खुशबू । देश के कोने कोने आज देवभूमि सिर्फ एक चीज़ के लिये जानी जाती है वो है ईमानदारी । गर्व है इस धरती पर ऐसे लाल पैदा होते है ।

Uttarakhandnews

One thought on “…जब राकेश को बाबा केदार के आंगन में 25 लाख की अंगूठी मिली। uttarakhand kedarnath

Leave a Reply

Your email address will not be published.