zydex

तिब्ब्त का नक्शा बनाने वाले नैन सिंह देश की धरोहर  : सतपाल

महाराज ने स्व.नैन सिंह के प्रपौत्र का बैंक ऋण चुकाया

स्व. नैन सिंह पर फिल्म बननी चहिये

महान सर्वेयर नैन सिंह जन्म-21 अक्टूबर 1830, जौहार
मृत्यु- 1 फरवरी 1882, मुरादाबाद

अविकल उत्तराखंड ब्यूरो


देहरादून।  बेहद कठिन भौगोलिक हालात में तिब्ब्त का नक्शा बनाने वाले महान सर्वेयर पण्डित नैन सिंह देश की धरोहर हैं । यह बात पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने पण्डित नैन सिंह की याद में आहूत कार्यक्रम में कही।

उन्होंने कहा कि पण्डित नैन सिंह ने हिमालयी इलाके में पिथौरागढ़ से काठमाण्डू व काठमाण्डू से ल्हासा तक पद यात्रा की थी। ब्रिटिश राज में 1863 में तिब्बत गए नैन सिंह ने तिब्बत का नक्शा तैयार किया था। 21 अक्टूबर 1830 में जन्मे नैन सिंह की 1 फरवरी 1882 को मुरादाबाद में मृत्यु हो गयी थी।

महाराज ने कहा कि तिब्बत भेजने से पहले ब्रिटिश अधिकारियों ने नैन सिंह को देहरादून के सर्वे कार्यालय में प्रशिक्षण दिया था। उस समय तिब्बत में अंग्रेजों के जाने पर प्रतिबंध था। लिहाजा इस कार्य के लिए नैन सिंह व उनके चचेरे भाई को चुना गया।

महाराज ने बताया कि नैन सिंह तिब्ब्त में बौद्ध भिक्षुओं के साथ पूरी तरह घुल मिल गए थे। और फिर वहीं रहकर तिब्ब्त का नक्शा बनाकर ब्रिटिश अधिकारियों को सौंपा। वे तीन इंच की रस्सी बांधकर पग नापते थे और दो हजार पग का एक मील नापते थे। उन्होंने कहा कि पंडित नैन सिंह रावत आज देश के लिए एक धरोहर है।

पंडित नैन सिंह रावत को विश्व मानचित्र पर तिब्बत को पहचान दिलाने के लिए भारत सरकार ने उनके जन्म के 139 साल बाद 27 जून 2004 को डाक टिकट जारी कर सम्मानित किया। उनकी 187वीं जयंती पर गूगल ने डूडल बनाकर सम्मानित किया है।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि हिमालय गौरव पंडित नैन सिंह रावत की 7वीं पीढ़ी के कविन्द्र सिंह पुत्र स्व. श्री कुन्दर सिंह ग्राम व पोस्ट मदकोट विकास खण्ड मुनस्यारी, जनपद पिथौरागढ़ के द्वारा बहुउद्देशीय साधन सहकारी समिति लिमिटेड मदकोट विकास खण्ड मुनस्यारी से 95 हजार का लोन लिया था। परिवार की माली स्थिति ठीक न होने के कारण वे लोन की धनराशि बैंक को अदा नहीं कर पाये।

सतपाल महाराज ने अपनी संस्था मानव सेवा उत्थान समिति के द्वारा बैंक को उनके कर्ज की अदायगी के लिए पंडित नैन सिंह रावत की प्रपौत्र  वधु कमला रावत को चैक भेंट किया।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि फ़िल्म निर्माताओं को पंडित नैन सिंह रावत के कार्यों पर एक फ़िल्म बनानी चाहिए। सतपाल महाराज ने सरकार से  नैन सिंह के प्रपौत्र वधु कमला रावत को स्थायी नौकरी देने का अनुरोध किया ।

कार्यक्रम में  पूर्व मंत्री अमृता रावत, ब्रिगेडियर विनोद पसबोला, रिटार्यड कमिश्नर एसएस पांगती, प्रकाश थपलियाल, पंडित नैन सिंह रावत  की प्रपौत्र वधु कमला रावत, अभिमन्यु कुमार, दिगम्बर नेगी, राजेन्द्र पंत, डा. कुंवर सिंह धर्मसत्तू आदि लोग मौजूद थे।

Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *