बिग ब्रेकिंग-देहरादून के गुनियाल गांव में बाघ, ग्रामीण दहशत में वन विभाग  हैरत में

ग्रामीण ने रविवार की रात्रि चहलकदमी करते बाघ को मोबाइल में कैद किया

वन विभाग के लिए इस इलाके में टाइगर की मौजूदगी आश्चर्यजनक

वन विभाग ने गुनियाल गांव के आस पास डाला डेरा

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। उत्त्तराखण्ड के पहाड़ से लेकर मैदान तक बेशक कई गुलदारों ने आतंक मचाया हुआ है लेकिन देहरादून में रविवार-सोमवार की रात्रि एक टाइगर यानि बाघ देखा गया। पुष्ट सूत्रों के मुताबिक देहरादून के गुनियाल गांव की सड़क पर देर रात टाइगर की चहलकदमी कैमरे में कैद हुई। बाघ की इस इलाके में मौजूदगी वन विभाग के लिए कौतूहल के साथ सिरदर्द भी बन गयी है। वन विभाग भी इस इलाके में बाघ के स्वतंत्र विचरण को आश्चर्यजनक बता रहा है। हालांकि, वन विभाग यह भी मान कर चल रहा है कि कहीं किसी ने सॉफ्टवेयर में छेड़छाड़ कर बाघ की यह फ़ोटो क्रिएट न की गयी हो।

Uttarakhand wild life
रविवार और सोमवार की देर रात गुनियाल गांव के पास टहलता टाइगर यानि बाघ

इस इलाके में सीनियर सिटीजन के लिए बनाए गए अंतरा अपार्टमेंट के निकट पानी के स्रोत पर देखा गया। देर रात वह जंगल की पगडंडी पर आ गया। इसी बीच यह भी चर्चा में आया कि वहां पर सो रहे ग्रामीण ने रात 12बजे बाघ को देख लिया। और अपने मोबाइल में कैद कर लिया। हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं हो पायी। बाघ की मौजूदगी से पूरे इलाके में जबरदस्त दहशत का माहौल है।

बाघ के मौजूद होने की सूचना सोमवार की सुबह वन विभाग को दी गयी। पुष्ट सूत्रों के मुताबिक वन विभाग के अधिकारियों ने गुनियाल गांव के आस पास गश्त बढ़ा दी है। सोमवार की वन विभाग के आधा दर्जन कर्मचारी गुनियाल गांव के आस पास बाघ की तलाश में गश्त कर रहे हैं।

Uttarakhand wild life
गुनियाल गांव के आस पास देखगे गए बाघ को लेकर वन विभाग के अधिकारी कई एंगल पर सर्च कर रहे हैं। यह बतभी सामबे आ रही है कि बाघ की फ़ोटो को impose किया गया है। इसे लेकर विभागीय अधिकारी हर पहलु को ठोक बजा लेना चाहते हैं। सोशल मीडिया में वायरल हुई इस फोटो के स्त्रोत का भी पता लगाया जा रहा है।

पुष्ट जानकारी के मुताबिक जब वह विभाग को इस इलाके में टाइगर के होने की सूचना दी तो उन्होंने समझा कि लैपर्ड (गुलदार) होगा। लेकिन कैमरे में कैद बाघ को देख अधिकारी भी आश्चर्य में पड़ गए।बावजूद इन खबरों केवन विभाग के अधिकारी यह भी मान कर चल रहे है कि फोटोशॉप के जरिये भी बाघ की कहानी गढ़ी गयी हो। वन विभाग इसे किसी के शातिराना दिमाग की उपज से भी इंकार नहीं कर रहा।

Uttarakhandnews
देर रात आस पास के रिहायशी इलाके में गश्त करते वन विभाग के अधिकारी। बाघ की मौजूदगी विभाग के गले नही उतर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.