zydex

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सभी 32 आरोपी बरी, विस्तृत समाचार

भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी मुख्य आरोपी थे

लखनऊ।
लखनऊ की विशेष सीबीआई अदालत ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में बुधवार को फैसला सुनाया, जिसमें सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया गया। इस मामले में प्रमुख भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी , सतीश प्रधान,महंत गोपालदास आदि मुख्य आरोपी थे।

Babri masjid

विकी रस्तोगी, वकील , हाईकोर्ट इलाहाबाद ने बताया कि बाबरी विध्वंस केस में 30 सितम्बर, बुधवार को फैसला सुनाते हुए जज सुरेन्द्र कुमार यादव ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं हैं। विवादित ढांचा गिराने की घटना पूर्व नियोजित नहीं थी बल्कि यह घटना अचानक हुई थी।

सुप्रीम कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट को 19 अगस्त, 2020 को आखिरी एक्सटेंशन दिया था

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कई बार मुकदमे को पूरा करने की समय सीमा बढ़ाई थी। सुप्रीम कोर्ट 19 अप्रैल, 2017 को जस्टिस पीसी घोष और आरएफ नरीमन की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा दिए गए डिस्चार्ज के खिलाफ सीबीआई द्वारा दायर अपील को अनुमति देकर आरोपियों के खिलाफ साजिश के आरोपों को बहाल किया था। संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपनी असाधारण संवैधानिक शक्तियों का प्रयोग करते हुए, पीठ ने रायबरेली के एक मजिस्ट्रेट अदालत में लंबित एक अलग मुकदमे को भी स्थानांतरित कर दिया था और उसे लखनऊ सीबीआई कोर्ट में आपराधिक कार्यवाही के साथ जोड़ दिया ‌था।

Babri masjid
लालकृष्ण आडवाणी

सुप्रीम कोर्ट ने रोजाना ट्रायल चलाने का आदेश देते हुए मामले को दो साल के भीतर समाप्त करने का आदेश दिया था। 19 जुलाई, 2019 को जस्टिस आरएफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने ट्रायल कोर्ट को छह महीने के भीतर साक्ष्य की रिकॉर्डिंग पूरी करने और नौ महीने के भीतर निर्णय देने का निर्देश दिया था। कोर्ट ने यूपी सरकार को यह भी निर्देश दिया था कि वह सीबीआई कोर्ट, लखनऊ के विशेष न्यायाधीश के कार्यकाल को बढ़ाने के लिए प्रशासनिक आदेश जारी करे। जज 30 सितंबर, 2019 को सेवानिवृत्त होने वाले थे।

Babri masjid

बाद में, 8 मई, 2020 को सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच, जिसमें जस्टिस नरीमन और सूर्यकांत शामिल थे, ने विशेष सीबीआई कोर्ट, इस मामले में फैसला देने की समय सीमा 31 अगस्त, 2020 तक बढ़ा दी थी। इस साल 24 जुलाई को ट्रायल कोर्ट ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आडवाणी का बयान दर्ज किया था।

निर्दोष होने का अनुरोध करते हुए, 92 वर्षीय पूर्व उप प्रधानमंत्री ने 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचे को गिराने में ‘कारसेवकों’ के साथ कथित साजिश में शामिल होने से इनकार किया था। उन्होंने निवेदन किया था कि वह पूरी तरह से निर्दोष हैं और उन्हें राजनीतिक कारणों से मामले में अनावश्यक रूप से घसीटा गया था।

Babri masjid
डॉ मुरली मनोहर जोशी

अयोध्या-बाबरी मस्जिद विवाद से संबंधित सिविल केस को 8 नवंबर, 2019 को अंतिम रूप दिया गया, जब 5-जजों की पीठ ने निर्देश दिया कि अयोध्या में 2.77 एकड़ की पूरी विवादित भूमि को राम मंदिर के निर्माण के लिए सौंप दिया जाना चाहिए।

Babri masjid
कल्याण सिंह

सुप्रीम कोर्ट ने माना था कि मस्जिद के निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ का एक वैकल्पिक भूखंड आवंटित किया जाना चाहिए। यह निर्देश संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए पारित किया गया था। न्यायालय ने तब माना था कि 1992 में बाबरी मस्जिद का विध्वंश कानून का उल्लंघन था। 1949 में मस्जिद के केंद्रीय गुंबद के नीचे मूर्तियों को रखने का कार्य “अपवित्र” कृत्य था। उस मामले में फैसला देने वाली संवैधानिक पीठ में जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस अब्दुल नाज़‌िर के साथ तत्कालीन सीजेआई रंजन गोगोई की शामिल थे।

⚪अयोध्या-बाबरी मस्जिद विवाद से संबंधित सिविल केस को 8 नवंबर, 2019 को अंतिम रूप दिया गया, जब 5-जजों की पीठ ने निर्देश दिया कि अयोध्या में 2.77 एकड़ की पूरी विवादित भूमि को राम मंदिर के निर्माण के लिए सौंप दिया जाना चाहिए।

Babri masjid
उमा भारती

➡️सुप्रीम कोर्ट ने माना था कि मस्जिद के निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ का एक वैकल्पिक भूखंड आवंटित किया जाना चाहिए। यह निर्देश संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए पारित किया गया था। न्यायालय ने तब माना था कि 1992 में बाबरी मस्जिद का विध्वंश कानून का उल्लंघन था। 1949 में मस्जिद के केंद्रीय गुंबद के नीचे मूर्तियों को रखने का कार्य “अपवित्र” कृत्य था। उस मामले में फैसला देने वाली संवैधानिक पीठ में जस्टिस एसए बोबडे, डीवाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और अब्दुल नाज़‌िर के साथ तत्कालीन सीजेआई रंजन गोगोई* की शामिल थे।

Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *