मुख्य सचिव ओमप्रकाश का दावा-उत्तराखंड के सभी निकाय खुले में शौच मुक्त

उत्तराखंड में 20750 शौचालयों का निर्माण पूरा

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने गुरुवार को सचिवालय में सचिव आवासन एवं शहरी मामलों के मंत्रालय, भारत सरकार दुर्गा शंकर मिश्रा द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत कार्यों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ली गयी समीक्षा बैठक में प्रतिभाग किया।

Odf free uttarakhand

मिश्रा ने कहा कि बढ़ते जनसंख्या घनत्व के अनुरूप, निकायों द्वारा सुविधाओं के विकास में तेजी लाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत, हाउसिंग फॉर ऑल, अमृत एवं स्मार्ट सिटी आदि योजनाओं के माध्यम से नागरिकों को सुविधाएं उपलब्ध कराना भारत सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने समस्त निकायों को खुले में शौच मुक्त घोषित होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि अब तेजी से निकायों को ओडीएफ प्लस एवं ओडीएफ प्लस प्लस कैटेगरी में लाने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए।

Odf free uttarakhand

मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा कि समस्त निकाय खुले में शौच मुक्त घोषित  किए जा चुके हैं। इसके साथ ही, 8 निकाय ओडीएफ प्लस एवं 2 निकाय ओडीएफ प्लस प्लस सत्यापित किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि आगामी स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 तक 70 निकायों को ओडीएफ प्लस एवं 17 निकायों को ओडीएफ प्लस प्लस कैटेगरी में लाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके साथ ही 2 निकायों को वाटर प्लस कराने का भी लक्ष्य रखा गया है।

मुख्य सचिव ने बताया कि 27640 व्यक्तिगत घरेलू शौचालयों के लक्ष्य के सापेक्ष 20750 व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है एवं 5353 शौचालयों का निर्माण कार्य जारी है। समस्त 1190 वार्डों में डोर टू डोर कूड़ा एकत्रीकरण किया जा रहा है। 772 वार्डों में सोर्स सेग्रीगेशन का कार्य प्रारम्भ हो चुका है।

Odf free uttarakhand

आगामी स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 के लिए सभी वार्डों में सोर्स सेग्रीगेशन का कार्य प्रारम्भ कराने का भी लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष गारबेज फ्री सिटी (जीएफसी) स्टार रेटिंग में 02 निकायों को फाईव स्टार, 20 निकायों को थ्री स्टार एवं 30 निकायों को वन स्टार रेटिंग प्रदान कराने का लक्ष्य रखा गया है।
इस अवसर पर सचिव शहरी विकास शैलेश बगोली भी उपस्थित थे।

Uttarakhandnews

One thought on “मुख्य सचिव ओमप्रकाश का दावा-उत्तराखंड के सभी निकाय खुले में शौच मुक्त

  1. देहरादून में कहीं पर भी सड़कों के किनारे टॉयलेट (यानी सू सू) करने की व्यवस्था मुनिस्पालिटी ने क्या की है? आप उदयपुर राजस्थान में जा के देखिए आपको महिला व पुरुष लिखा हुआ सड़कों के किनारे सीमेंटेड 7 फीट ऊंचे कवर्ड टॉयलेट नजर आयेंगे। ये मुखिया साहब लगते हैं कि देहरादून की सड़कों पर कभी घूमते नहीं है। खुद ही अपनी पीठ थप थपालो, ठीक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.