रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र की बैठक में राम मन्दिर के नक्शे में बदलाव पर सहमति

3 या 5 अगस्त को हो सकता है शिलान्यास, अंतिम फैसला PMO पर

मन्दिर में 3 की जगह होंगे 5 गुम्बद, मन्दिर की ऊंचाई भी बढ़ेगी

अविकल उत्तराखंड ब्यूरो

लखनऊ। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की शनिवार को हुई  बैठक में शिलान्यास की तारीख प्राथमिक तौर पर तय हो गई ।

बैठक में गहन मंथन के बाद  प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को 3 अगस्त और 5 अगस्त की तारीख भेजी गई है। ट्रस्ट ने शिलान्यास की तारीख पर आखिरी फैसला प्रधानमंत्री कार्यालय पर छोड़ दिया है। बैठक में मन्दिर के डिजाईन पर कुछ बदलाव भी सुझाए गये.

अन्ततः विचार विमर्श के बाद मंदिर का नक्शा बदलने पर भी फैसला हुआ। अब मंदिर में 3 की जगह 5 गुम्बद होंगे. मंदिर की ऊंचाई भी प्रस्तावित नक्शे से अब ज्यादा हो जायेगी.

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के अनुसार जल्द ही मन्दिर के लिए फंड जुटाने का काम भी शुरू हो जायेगा। हालाँकि इसके लिए कोरोना के कारण उत्पन्न हालात के सामान्य होने का इन्तजार किया जायेगा । उन्होंने कहा कि स्थिति सामान्य हो जाने के बाद फंड एकत्र किया जाएगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि मन्दिर बनाने में तीन से साढ़े तीन साल लगेंगें।

आज की इस बैठक में मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा भी मौजूद थे। दरअसल, नृपेंद्र मिश्रा के साथ बड़े इंजीनियरों का एक दल अयोध्या में है, जो मंदिर निर्माण की बारीकियों को देखेगा। राम मंदिर का मॉडल तैयार करने वाले चंद्रकांत सोमपुरा के अलावा उनके बेटे निखिल सोमपुरा भी अयोध्या में हैं.

Uttarakhandnews

2 thoughts on “रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र की बैठक में राम मन्दिर के नक्शे में बदलाव पर सहमति

Leave a Reply

Your email address will not be published.