मंत्री आवास पर शीर्षासन के साथ तू तू मैं मैं..जल समाधि से आत्मदाह तक


मंत्री सुबोध उनियाल का केदार में स्वागत लेकिन दून में नारेबाज

चार धाम तीर्थ पुरोहित हक हकूकधारी महापंचायत ने यमुना कालोनी में मंत्री सुबोध उनियाल व बिशन सिंह चुफाल का आवास घेरा

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। प्रधानमंत्री मोदी के दौरे से ठीक पहले केदारनाथ में नाराज तीर्थ पुरोहितों को मनाने वाले कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल की दून में तीखो झड़प हो गयी। पुरोहितों ने जल समाधि व आत्मदाह की भी चेतावनी दी। तीर्थ पुरोहितों ने मंत्री आवास पर शीर्षासन भी किया।

दरअसल, मंगलवार को
चार धाम तीर्थ पुरोहित हक हकूकधारी महापंचायत ने अपने तयशुदा कार्यक्रम के तहत यमुना कॉलोनी में मंत्री सुबोध उनियाल का आवास घेरने एकत्रित हुए। इस दौरान जमकर नारेबाजी कर पंडा समाज ने विरोध जताया। मंत्री उनियाल से खूब गर्मा गर्मी भी हुई। मंत्री पर धमकी देने पर आरोप भी लगा।

नाराज पुरोहितों ने भाजपा से सामूहिक इस्तीफे की भी बात कही। तीर्थ पुरोहितों ने भी आर पार की जंग का ऐलान किया।

मंगलवार को चारों धामों के तीर्थ पुरोहितों ने सबसे पहले कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के आवास के बाहर 2 घंटे से अधिक समय तक धरना प्रदर्शन एवं नारेबाजी की ।

शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने 30 नवंबर तक मामले के हल का आश्वासन भी दिया। उनियाल के आवास के बाद आंदोलित पंडा समाज ने कैबिनेट मंत्री बिशन सिंह चुफाल के आवास पर प्रदर्शन किया।

इस दौरान नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने भी यमुना कालोनी के धरना स्थल पर पहुंचकर तीर्थ पुरोहितों की मांग का समर्थन किया।

देखें वीडियो

महापंचायत से जुड़ी हुई मंदिर समितियों ,पंचायतों एवं तीर्थ पुरोहित महासभाओं के संयुक्त तत्वावधान में चारधाम देवस्थानम ऐक्ट के विरोध में आंदोलित तीर्थ पुरोहितों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि 30 नम्बर तक देवस्थानम प्रबंधन एक्ट सरकार वापस नहीं लेती है, तो राज्यव्यापी अभियान छेड़ा जाएगा ।

धरना प्रदर्शन का नेतृत्व चार धाम महापंचायत के संयोजक सुरेश सेमवाल ने किया। चार धाम महापंचायत के प्रवक्ता डॉ बृजेश सती ने कहा कि आगामी 27 नवंबर को चार धाम महापंचायत की बैनर के तले काला दिवस मनाया जाएगा। गांधी पार्क से सचिवालय तक आक्रोश रैली निकाली जाएगी ।

धरना प्रदर्शन में यमुनोत्री तीर्थ पुरोहित महासभा के अध्यक्ष पुरुषोत्तम उनियाल ,ब्रह्म कपाल तीर्थ पुरोहित पंचायत समिति बद्रीनाथ धाम के अध्यक्ष उमेश सती, केदार तीर्थ पुरोहित महासभा के कार्यकारिणी सदस्य आचार्य संतोष त्रिवेदी, संजय तिवारी, चंडी प्रसाद तिवारी, सौरभ शुक्ला ,गणेश तिवारी, यमुनोत्री के रावल अनुरुद उनियाल, गंगोत्री मंदिर समिति के सह सचिव निखिलेश सेमवाल आदि मौजूद रहे।

गौरतलब है कि 5 नवंबर को प्रधानमंत्री मोदी के केदारनाथ दौरे से पहले नाराज तीर्थ पुरोहितों ने पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का विरोध कर केदार बाबा के दर्शन नहीं करने दिया था। इस बीच, मंत्री सुबोध उनियाल केदारनाथ जाकर पंडा समाज को समझाने में सफल हुए थे। मंत्री हरक सिंह भी पंडा समाज को मनाने गए थे।

पुरोहितों ने केदारनाथ में मंत्री सुबोध उनियाल का भव्य स्वागत भी किया था। पीएम मोदी के दौरे का तीर्थ पुरोहित समाज ने कोई विरोध नहीं किया था।

इधर, चारधाम के कपाट बंद होने के बाद पंडा समाज ने देहरादून में डेरा डाल मंत्रियों के विरोध में उतर आए हैं। और सरकार पर 30 नवंबर तक देवस्थानाम बोर्ड को भंग करने का दबाव बनाने की कोशिश में जुटे हुए हैं।

नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने भी यमुना कॉलोनी में आकर तीर्थ पुरोहितों के धरना प्रदर्शन का समर्थन किया उन्होंने कहा कि समय रहते राज्य सरकार देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को वापस ले और यदि वह ऐसा करने में असफल होती है तो कांग्रेस की सत्ता में आते ही  एक्ट को खत्म करेंगे।

Pls clik- कैबिनेट के फैसले

धामी कैबिनेट के खास फैसले, खेल नीति पर लगी मुहर

Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews

अपनी प्रतिक्रिया साझा करे