उत्त्तराखण्ड में बिकी नाबालिग, शादी के खुलासे के बाद गांव लौटी,वीडियो देखें

मात्र 6 हजार में खरीदी गई 14 साल की नाबालिग। उत्त्तराखण्ड में जारी है मानव तस्करी

लॉकडौन में 14 साल की लड़की की दून निवासी 32 साल के व्यक्ति से की गई शादी। लड़की ने किया था विरोध

शिक्षक सती ने बताया, कक्षा आठ की है छात्रा

पति शराब पीकर करता था मारपीट

चमोली जिला प्रशासन, राज्य महिला व बाल सरंक्षण आयोग ने लिया मामले का संज्ञान

अविकल उत्त्तराखण्ड

पोखरी, चमोली। उत्त्तराखण्ड के सीमांत चमोली जिले से एक शर्मनाक खबर सामने आ रही है। पोखरी इलाके
में चंद पैसे से नाबालिग लड़की खरीद कर शादी का मामला सामने आया है। मामला चमोली जिले के दूरस्थ पोखरी इलाके का है। इस इलाके में शिक्षण कार्य कर रहे शिक्षक उपेंद्र सती ने पांच मिनट का वीडियो जारी कर इस सनसनीखेज मामले का खुलासा किया है।

Minor Crime uttarakhand

खुलासे के बाद जिला प्रशासन में हरकत देखी जा रही है। लड़की के पिता को मात्र 6 हजार में खरीद कर लड़की की शादी कर  दी गयी। इस पूरे प्रकरण में गांव के ही एक बिचौलिए की भूमिका सामने आ रही है। यह सब खरीद-फरोख्त कोरोना लॉकडौन के दौरान की गई।
अनलॉक पीरियड में जब वह लड़की एग्जाम देने नही आयी तो यह मामला खुला। चमोली जिला प्रशासन ने मामले की जांच शुरू कर दी है। Minor Crime uttarakhand

देखें वीडियो

शिक्षक सती ने बताया कि पास के गांव की एक नाबालिग लड़की के एग्जाम नही देने पर जब उसके पिता से पूछताछ की तो पता चला कि नाबालिग की शादी एक दोगुनी उम्र के व्यक्ति के साथ कर दी गयी है। वह 32 साल का व्यक्ति लड़की के पिता और दबाव बना कर 6 हजार रुपए में लड़की को खरीद ले गया था।

देहरादून में पेशे से मजदूरी  करने वाला व्यक्ति शराब पीकर लड़की के साथ मारपीट करता था। होली के दिन उसने मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगाने की कोशिश भी की। 14 साल की नाबालिग लड़की काफी सहमी हुई है।

Minor Crime uttarakhand

कक्षा आठ की इस छात्रा की मां नहीं है। 14 साल। लोकडौन के बाद स्कूल निहि आयी। पिता पर दबाव। दयनीय स्थिति। शराब वर्कर पुताई। होली के मिट्टी तेल।

शिक्षक सती ने दावा किया कि चमोली, उत्तरकाशी आदि इलाके में दर्जनों ऐसे केस हो रहे हैं। एक रैकेट काम कर रहा है। बाहर से लोग कारों में पैसे लेकर आते हैं और मजबूरी का फायदा उठाकर लड़की खरीद ले जाते है। इसमें स्थानीय दलालों की भी भूमिका बतायी जा रही है। यही नही उपभोग करने के बाद दूसरे हाथों में भी बेच देते है।

Minor Crime uttarakhand

पहाड़ी जिलों के गरीबों को टारगेट किया जा रहा है। वे कहते हैं कि बालिका की पढ़ाई जारी रखेंगे। रोटी है। उन्होंने जिला प्रशासन, सामाजिक संस्थाओं व बाल सरंक्षण आयोग से हस्तक्षेप की भी अपील की है।Minor Crime uttarakhand

अन्य खास खबरें,plss clik

सीएम तीरथ तक पहुंची मानव तस्करी की तपिश, बोले- सख्त कार्रवाई हो

कोरोना- सात की मौत, दून स्कूल के 7 छात्र व 5 टीचर पॉजिटिव

कुम्भ कार्यों में कमी बर्दाश्त नहीं- तीरथ

Nalanda
Flower

अपनी प्रतिक्रिया साझा करे

error: Content of this site is protected under copyright !!