दोनों भाजपा नेताओं के शव रेस्क्यू, पैतृक घाट पर अंतिम संस्कार. देखें रेस्क्यू वीडियो

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र समेत सैकड़ों लोगों ने दी श्रद्धाजंलि

अविकल उत्त्तराखण्ड

गोपेश्वर। कड़ी मशक्कत के बाद श्री बद्री-केदार मंदिर समिति के निवर्तमान अध्यक्ष एवं भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल व ओबीसी मोर्चा के जिलाध्यक्ष कुलदीप चौहान के शवों को रेस्क्यू कर लिया गया।

Uttarakhand accident

चट्टान में फंसे होने के कारण रविवार को दोनों शव निकाले नहीं जा सके थे।सोमवार को काफी प्रयास के बाद चट्टान पर अटके दोनों शवो को एनडीआरएफ ने रेस्क्यू किया और मौके पर ही पोस्टमार्टम कर पार्थिव शरीर परिजनों को सौंपा गया।

सोमवार को चले रेस्क्यू आपरेशन के बाद निकाले गए शव

इसके बाद पार्थिव शरीर को पीपलकोटी के न्यू बस स्टैण्ड के प्रतीक्षालय लाया गया, जहां मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, तीनों विधायकों व भाजपा के अन्य नेताओं, कार्यकर्ताओं तथा स्थानीय लोगों ने श्रद्वासुमन अर्पित कर दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना की। इसके बाद दोनों पार्थिव शवों का पैतृक घाट पर अंतिम संस्कार किया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वरिष्ठ भाजपा नेता मोहन प्रसाद थपलियाल का जाना पार्टी के लिए बहुत बडी क्षति है।

बद्रीनाथ के विधायक महेन्द्र प्रसाद भट्ट, थराली की विधायक मुन्नी देवी शाह, कर्णप्रयाग के विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी, भाजपा जिलाध्यक्ष रघुवीर सिंह बिष्ट, जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया, मुख्य विकास अधिकारी हंसादत्त पांडे सहित भाजपा के तमात क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों सहित भारी संख्या में स्थानीय लोगों ने भी श्रद्वांजलि दी।

चारधाम प्रोजेक्ट की वजह से बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहन चलाना किसी बड़े जोखिम से कम नही है

शनिवार को भाजपा के वरिष्ठ नेता मोहन प्रसाद थपलियाल शनिवार को कर्णप्रयाग में मंडल प्रशिक्षण कार्ययोजना की बैठक मे भाग लेने के बाद शाम को अपने गांव तपोवन लौट रहे थे। ओबीसी के जिलाध्यक्ष कुलदीप चौहान भी उनके साथ थे। पीपलकोटी से थोडा आगे भनेरपानी के निकट उनकी कार अनियंत्रित होकर लगभग 300 मीटर गहरी खाई मे जा गिरी।

दुर्घटना स्थल के दूसरी और की पहाड़ी पर स्थित मठ बेमरू गांव के ग्रामीणों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। रविवार को सुबह एनडीआरफ की मदद से सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। दोपहर में चट्टान पर दो शव दिखाई दिए, लेकिन यहां आवाजाही के लिए रास्ता ना होने के कारण शवों को पूरे दिन भर रेस्क्यू नहीं किया जा सका और अंधेरा होने के कारण सर्च आपरेशन बंद करना पड़ा था।

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.