UttarakhandDIPR

पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट आल वेदर रोड में डीएम ने पकड़ा बड़ा झोल

चमोली की डीएम भदौरिया ने बुधवार को चमोली से कर्णप्रयाग तक चारधाम हाईवे प्रोजेक्ट/ आलवेदर रोड और रेलवे कार्यो का किया औचक निरीक्षण

तीन रेडीमिक्स मिक्स प्लांट सीज, मलबे से ग्रामीणों की संपत्ति को नुकसान

रेलवे ने जिलासू एवं कालेश्वर के दो रेडीमिक्स प्लांटों की रॉयल्टी जमा नहीं की

नदी में गिर रहा मलबा, डीएम ने रिटेनिंग वाल बनाने को कहा

अविकल उत्त्तराखण्ड

चमोली। पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट आल वेदर रोड /चारधाम प्रोजेक्ट के निर्माण में गड़बड़ी पकड़ में आयी है। लगभग 800 किमी से अधिक है इस चारधाम हाईवे प्रोजेक्ट की लंबाई। और कुल लागत 12 हजार करोड़। डीएम ने कुछ किलोमीटर के हिस्से में बड़ा झोल पकड़ा है।

सीमांत चमोली जिले की डीएम ने बुधवार को सैन्य दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण इस महत्वाकांक्षी परियोजना के कुछ ही किलोमीटर के स्थलीय जांच में गड़बड़ी पकड़ी। रेडीमिक्स प्लांट व स्टोन क्रशर पर एक्शन लिया। रेलवे पहाड़ी पर रिटेनिंग वाल बनाने के आदेश दिए। पहाड़ी का मलबा नदी में न जाय, लिहाजा सड़क किनारे वाल बनाने को कहा। क्रैश बैरियर व पैराफिट बनाने को भी कहा। बिना पीसीबी की अनुमति के चल रहे रेडीमिक्स कंक्रीट प्लांट में ओआई का छिड़काव नही,ग्रीन बेल्ट नहीं और सीसीटीवी कैमरा भी नही आदि आदि…

All weather road, chardham project
डीएम स्वाति भदौरिया एक्शन में

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने बुधवार को बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर चमोली से कर्णप्रयाग तक आलवेदर रोड कार्यो और रेलवे कार्यो का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने अनियमितता और मानकों के अनुरुप संचालन नहीं होने पर सोनला तथा कालेश्वर में तीन रेडीमिक्स प्लांट को सीज कर दिया।

सोनला के निकट संचालित रेडीमिक्स कंक्रीट प्लांट
बिना पीसीबी की अनुमति के चल रहा था।
प्लांट के चारों ओर बाउंड्रीवाल, सीसीटीवी कैमरा, ग्रीन वेल्ट एवं पानी का छिड़काव की भी व्यवस्था नहीं थी।

रेलवे के जिलासू एवं कालेश्वर में संचालित दो रेडीमिक्स प्लांटों में कुछ भी ठीक ठाक नही मिला। खनन अधिकारी ने बताया कि रेलवे ने अभी तक इसकी राॅयल्टी भी जमा नही है। इस पर जिलाधिकारी ने मैटेरियल की माप कर जुर्माना वसूलने के निर्देश दिए।

All weather road, chardham project

देवलीबगड में स्टोन क्रशर के निरीक्षण में प्रतिदिन क्रश किए गए स्टोन की मात्रा के संबध में सही जानकारी न मिलने पर  जिलाधिकारी ने दो दिन में पूरी रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

पुरसाडी के निकट संचालित एचएमटी प्लांट का जून से रिन्यूअल नही कराया गया लेकिन फिर भी कम चालू था।डीएम ने तत्काल प्लांट का संचालन रोकने के आदेश दिए। साथ ही एसडीएम को अवैघ भंण्डारण की माप करते हुए जुर्माना वसूलने को कहा।

वहीं, लंगासू के निकट वैडाणू में एनएच पर बने कलवट के पानी से बरसात के दौरान क्षतिग्रस्त हुए लोगों के खेतों का शीघ्र मुआवजा देने के निर्देश दिए।

इससे पूर्व, जिलाधिकारी ने चमोली, कुहेड, बाजपुर, मैठाणा, नंदप्रयाग, सोनला, कालेश्वर आदि स्थलों पर आलवेदर सड़क निर्माण कार्यो का स्थलीय निरीक्षण किया। खराब सड़क को ठीक करने के लिए जिलाधिकारी ने 48 घण्टे के अंदर डीबीएम कराने एवं सुरक्षा के लिए क्रैशबैरियर व पैराफीट लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कुहेड, बाजपुर में सड़क कटिंग से बने स्लाइड जोन के ट्रीटमेंट के लिए रिटेनिंग वाल की हाइट बढ़ाने को कहा।

डीएम ने कटिंग से कमजोर हुई पहाड़ी पर रिटेनिंग वाल बनाने को कहा।उन्होंने सड़क कटिंग के मलबे को नदी में जाने से रोकने के लिए नदी किनारे भी रिटेनिंग वाल बनाने को कहा।

ऋषिकेश से देवप्रयाग के बीच जारी है आल वेदर रोड का काम

नंदप्रयाग में सड़क कटिंग मलबे से नगर पंचायत व स्थानीय लोगों की परिसंपत्तियों के नुकसान का 20 दिसंबर तक मुआवजा देने के आदेश दिए।

जिलाधिकारी ने क्षतिग्रस्त सड़क, रास्ते, पार्क आदि परिसंपत्तियों का पुर्ननिर्माण करने कभी आदेश दिए। उन्होंने कहा कि यदि लोगों के घरों, खेतों से तुरंत मलबा नही हटाया गया तो एनएच की सभी मशीने जब्त कर निर्माण कार्यो पर रोक लगाई जाएगी।


इस दौरान एडीएम अनिल कुमार चन्याल, एसडीएम कौस्तुभ मिश्र, खनन अधिकारी दिनेश कुमार, तहसीलदार सोहन सिंह रांगड, एनएच के प्रोजेक्ट मैनेजर केके शर्मा, एनएच के एई शंशिकांत मणि आदि मौजूद थे।

Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content of this site is protected under copyright !!