करप्शन के मुद्दों पर कांग्रेस का हंगामा, अध्यक्ष का कोर्ट के मामलों पर चर्चा से इनकार

कर्मकार कल्याण बोर्ड , छात्रवृत्ति समेत अन्य मुद्दों पर कांग्रेस ने उठायी चर्चा की मांग

नेता विपक्ष इंदिरा ह्रदयेश व प्रीतम सिंह के हमलों का मंत्री मैदान कौशिक ने किया मुकाबला

विपक्ष ने डॉ हरक सिंह से प्रलोभन के बाद पार्टी बदलने पर उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति राजनीतिक महत्वाकांक्षी नही है वह स्वंय के लिये समाज के लिये ,देश के लिए बोझ है

मोती लाल वोरा के निधन पर सत्र समाप्ति पर मौन रखा जाएगा।इसके पूर्व काजी ने तर्क रखा था कि वोरा अविभाजित उत्तर प्रदेश के राज्यपाल भी थे

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने भ्र्ष्टाचार केमुद्दे पर सदन में जमकर हंगामा किया। नेता विपक्ष डॉ इंदिरा ह्रदयेश, प्रीतम सिंह ने भाजपा सरकार के भ्र्ष्टाचार ओर नियम 310 के तहत चर्चा की मांग की। डॉ इंदिरा ह्रदयेश ने भ्र्ष्टाचार के मामलों का उल्लेख करते हुए नियम 310 के तहत चर्चा कराने की मांग को लेकर विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल को लिखित में पत्र भी दिया।

Assembly session
विस अध्यक्ष प्रेमचंद व नेता विपक्ष डॉ इंदिरा ह्रदयेश सदन में जाते हुए

बुधवार को प्रश्नकाल शुरू होते ही कांग्रेस बैंच ने कर्मकार कल्याण बोर्ड, छात्रवृति, विकास प्राधिकरण के घोटाले समेत अन्य मुद्दे उठा चर्चा की मांग की। संसदीय कार्य मंत्री मदन कौशिक ने कहा अदालत में चल रहे मामलों को सदन में नही उठाया जा सकता। विस अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल ने भी सदन में कोर्ट के अधीन मुद्दों पर चर्चा से इनकार किया।

प्रीतम सिंह ने कहा कि सरकार जवाब नही देना चाहती, क्यों कि उसके चेहरे से नकाब उठेगा। विस अध्यक्ष ने कहा कि विपक्ष को पूरा मौका दिया जा रहा है। न्यायालय से संबंधित विषय की चर्चा से मना किया। विस अध्यक्ष से भी इंदिरा व प्रीतम की काफी देर तक बहस होती रही।

इस पर नेता विपक्ष डॉ इंदिरा ह्रदयेश ने कहा कि जो मुद्दे कोर्ट पर नही चल रहे उन मुद्दों पर चर्चा की जाय। जनहित याचिका तो कोई भी लगा सकता है। भ्र्ष्टाचार के सवाल पर सत्ता व विपक्ष के बीच लगभग 15 मिनट तक हंगामा होता रहा।

Assembly session

नेता विपक्ष इंदिरा ह्रदयेश ने अध्यक्ष से कहा कि भ्र्ष्टाचार पर सरकार को कड़ी फटकार लगाए।
प्रीतम ने कहा कि सरकार बहस नही कराना चाहती। संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि जीरो टॉलरेन्स की सरकार है।

इंदिरा ह्रदयेश बोली कि भ्र्ष्टाचार पर नही  सुनेंगे तो जनता हिसाब करेगी। उन्होंने विस अध्यक्ष से सरंक्षण की भी मांग की।

सदन की शुरुआत में लगभग 15 मिनट हंगामे के बाद प्रश्नकाल व शून्यकाल की कार्यवाही चली। डेढ़ बजे सदन की कार्यवाही 3 बजे तक स्थगित कर दी।

24 दिसंबर को असरकारी दिवस

शीतकालीन सत्र के लिए विधानसभा अध्यक्ष की अध्यक्षता में बुलायी गयी कार्य मंत्रणा की बैठक में तय किया गया कि 24 दिसंबर को भी असरकारी दिवस के रूप में सत्र होगा।जिसमें कि प्रश्नकाल नहीं होगा।

यह भी पढ़ें, plss clik

किसान, बेरोजगार व स्वर्गीय जीना के मुद्दे पर सदन गर्म, अनुपूरक बजट पारित

युवक कांग्रेस की रैली में भाजपा को उखाड़ फेंकने का आह्वान, जोरदार प्रदर्शन कर सरकार को चेताया

सदन में हरिद्वार के बालिका हत्याकांड की गूंजअभियुक्त की गिरफ्तारी पर 1 लाख का ईनाम

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.