महाकुम्भ फर्जी कोरोना जांच फर्जीवाड़े में छोटी मछली पुलिस के जाल में फंसी

नलवा लैब कर्मी आशीष को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बड़े मगरमच्छों को कोर्ट से मिला है गिरफ्तारी स्टे

अविकल उत्त्तराखण्ड

हरिद्वार। हरिद्वार महाकुम्भ कुंभ में कोरोना जांच फर्जीवाड़े की जांच कर रही एसआईटी ने छोटी मछली को गिरफ्तार कर लिया। गुरुवार को पहले आरोपी को गिरफ्तार किया है।सीओ सिटी अभय प्रताप सिंह ने बताया कि आशीष निवासी हरियाणा को गिरफ्तार किया । आशीष को कोर्ट में पेश किया जा रहा है। दूसरी ओर, मैक्स कार्पोरेट सर्विस के शरत पंत व मल्लिका पंत की गिरफ्तारी पर हाईकोर्ट ने स्टे बढ़ा दिया गया।

गिरफ्तार आरोपी नलवा लैब के लिये काम करता था, पुलिस की गिरफ्त में आया आरोपी आशीष नलवा लैब को टेस्टिंग के लिए मैन पावर व अन्य सामान उपलब्ध कराए थे। आरोपी आशीष कोरोना जांच के डाटा फीडिंग का काम भी देखता था।

गौरतलब है कि कुम्भ के दौरान 1 लाख फर्जी जांच के मामले में नलवा व डॉ लाल चंदानी लैब के मालिक गिरफ्तारी से बचने के लिए हाईकोर्ट से स्टे ले चुकी है। मैक्स कारपोरेट सर्विस से जुड़े शरत पंत की भाजपा।के दिग्गज नेताओं के साथ फोटो वायरल होने से सरकार को भी बैकफुट पर आना पड़ा था।

कोरोना की जांच के जिम्मा आला स्तर से हुआ था। इसमें निदेशालय की कोई भूमिका नहीं पाई गई।

गिरफ्तार नलवा लैब कर्मी आशीष

कुम्भ मेले के दौरान कोरोना जांच करने का काम मेला प्रशासन ने मैक्स कॉरपोरेट सर्विस को दिया था। इस कंपनी ने दो कंपनी नलवा लैब और दिल्ली के डॉ लाल चंदानी लैब को दे दिया था। दोनों ही कंपनियों ने एक लाख से ज्यादा कोरोना की जांच की थी। उसके बाद शिकायत होने पर शासन ने जिलाधिकारी हरिद्वार को जांच करने के आदेश दिए थे। सीएमओ हरिद्वार ने शहर कोतवाली में तीनों कंपनियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया था। मुकदमा दर्ज होने के बाद एसएसपी हरिद्वार ने पूरे मामले की जांच के लिए एक एसआईटी गठित की थी। एसआईटी ने जांच के बाद गुरुवार पहली गिरफ्तारी की है।

इस छोटी गिरफ्तारी के बाद निगाहे जांच टीम पर टिक गई है। बड़े बड़े मगरमच्छों पर जांच टीम हाथ डाल पाएगी, इसमें संदेह बना हुआ है।

Pls clik

लोक सेवा आयोग ने प्रवक्ता अहर्ता जांच प्रोग्राम जारी किया, देखें आदेश

अपनी प्रतिक्रिया साझा करे

error: Content of this site is protected under copyright !!