सेक्स स्कैंडल-पीड़िता की सीबीआई जांच की मांग, जांच एजेंसी पर सवाल दागे, देखें पत्र। sex scandal uttarakhand

पीड़िता ने वकील के मार्फत गृह सचिव नीतेश झा को भेजा पत्र

समझौते के दबाव व पुलिस जांच को कठघरे में किया खड़ा

अविकल उत्त्तराखण्ड


देहरादून। उत्त्तराखण्ड के बहुचर्चित सेक्स स्कैंडल की सीबीआई जांच की मांग करते हुए पीड़िता ने राज्य के गृह सचिव को तीन पेज का लम्बा चौड़ा पत्र भेजा है। पीड़िता की ताजी सीबीआई जांच की मांग से मामले में नया मोड़ आ गया है।

Uttarakhand sex scandal

पीड़िता के वकील एस पी सिंह ने पत्र में अब तक पुलिस की जांच पर सिलसिलेवार तीखे सवाल उठाए हैं।पीड़िता ने कहा कि जांच एजेंसी अभियुक्त भाजपा विधायक महेश नेगी पर कार्रवाई करने के बजाय उसको परेशान व समझौते के लिए दबाव बना रही है।

Uttarakhand sex scandal

पत्र में सिपाही हरिओम को मारने पीटने व धमकाने के मुद्दे ओर भी विधायक महेश नेगी पर हमला किया है। महिला दारोगा कर समझौते का दबाव बनाने का भी उल्लेख किया है।

Uttarakhand sex scandal

पीड़िता ने डीएनए रिपोर्ट पर भी जांच एजेंसी के सवाल उठाने व फर्जी बताने पर भी आश्चर्य जताया।दूसरी ओर, बाल आयोग की ओर से भी पीड़िता को भी लगातार नोटिस भेजने से भी जांच को लेकर कई सवालिया निशान लगने लगे हैं।

Uttarakhand sex scandal

बहरहाल, भाजपा विधायक महेश नेगी और बच्ची के डीएनए जांच की लगातार मांग कर रही पीड़िता की सीबीआई जांच की मांग से सत्ताधारी भाजपा बैकफुट पर अवश्य आ गयी है। पुलिस और सत्ता के दबाव को देखते हुए कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल लगातार हमला बोल रहे हैँ। पीड़िता के वकील ने कहा कि यदि सात दिन के अंदर राज्य सरकार ने सीबीआई जांच के बाबत कोई निर्णय नहीं लिया तो वे हाईकोर्ट में याचिका दायर करेंगे।

Uttarakhand sex scandal

Sex scandal uttarakhand, यह भी पढ़ें

शामली नहीं दिल्ली में हुआ दीपक व बेबी का डीएनए टेस्ट। देखें डीएनए रिपोर्ट। SEX SCANDAL UTTARAKHAND

Uttarakhandnews

One thought on “सेक्स स्कैंडल-पीड़िता की सीबीआई जांच की मांग, जांच एजेंसी पर सवाल दागे, देखें पत्र। sex scandal uttarakhand

  1. Bjp में लगता है कि ये एक्स सीएम स्व. एनडी तिवारी जी के पक्के चेले है। जब तक सीबीआइ या अन्य केंद्रीय एजेंसी जांच नहीं करती तब तक दूध का दूघ व पानी का पानी केसे होगा। जय हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.