ग्राफिक एरा ने आपदा पीड़िता को दी इक अदद छत


आपदा पीड़ित रैंणी की सोणी देवी को मकान सौंपेंगे मुख्यमंत्री

अविकल उत्तराखंड

देहरादून। बीते साल चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से आयी आपदा में बेघर हुई वृद्धा श्रीमती सोणी देवी को अपना नया घर मिलने जा रहा है। ग्राफिक एरा द्वारा बनाये गए इस घर की चाबी कल (20 जून को) मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी गोपेश्वर में आयोजित समारोह में सौंपेंगे।

जोशीमठ क्षेत्र के रैंणी गांव में फरवरी, 2021 में ग्लेशियर टूटने से भयंकर बाढ़ आ गई थी। इस बाढ़ में बड़े स्तर पर जन-धन की हानि होने के साथ ही रैंणी गांव में वृद्धा श्रीमती सोणी देवी का घर भी जमींदोज हो गया था। ग्राफिक एरा ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंन के चेयरमैन डॉ कमल घनशाला ने रैंणी में बेघर हुई सोणी देवी के लिए आसपास के सुरक्षित इलाके में घर बनाने का निर्णय करके ग्राफिक एरा के विशेषज्ञों की एक टीम निदेशक इंफ्रास्टैचर डॉ सुभाष गुप्ता के निर्देशन में रैंणी गांव भेजकर सहायता कार्य का आगाज कर दिया था।

परगनाधिकारी जोशीमठ सुश्री कुमकुम जोशी और जिला प्रशासन के सहयोग से भूमि का चयन व अन्य औपचारिकताएं पूरी करने के बाद श्रीमती सोणी देवी के लिए जोशीमठ के पास मेरग गांव में नये घर का निर्माण कराया गया है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कल (20 जून को) श्रीमती सोणी देवी को गोपेश्वर में होने वाले कार्यक्रम में इस घर की चाबी सौंपने की स्वीकृति दे दी है।

ग्राफिक एरा के महानिदेशक डॉ संजय जसोला और निदेशक (इंफ्रा.) डॉ सुभाष गुप्ता भी कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। भूकम्परोधी तकनीक से यह मकान बनाया गया है। नया घर मिलने को लेकर श्रीमती सोणी देवी बहुत उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि आंसू पोंछने के लिए डॉ कमल घनशाला जैसे लोग हों, तो आदमी कितना भी बड़ा दर्द भूल सकता है।

Pls clik

सीएम धामी ने प्रदेश के पत्रकारों की पेंशन बढ़ाने की घोषणा की

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.