शहीद स्थल पर आत्मदाह पर उतारू आंदोलनकारी सकलानी का निधन

-11 सितम्बर को शहीद स्थल के मंदिर में स्वयं को पेट्रोल की बोतल के साथ किया था बंद

शनिवार देर सांय बिगड़ी हालत, दिल का दौरा पड़ा

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून।
दो दिन पहले 11 सितम्बर को देहरादून के कचहरी स्थित शहीद स्थल पर बने मंदिर में आत्मदाह पर उतारू राज्य आंदोलनकारी बीएल सकलानी का शनिवार की रात 9.30 बजे दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे 67 साल के थे। इस घटना पर राज्य आंदोलनकारियों में शोक की लहर है।

स्वर्गीय बीएल सकलानी

गौरतलब है कि बीते शुक्रवार को आंदोलनकारी बीएल सकलानी अचानक शहीद स्थल पहुंचे थे। और शहीद स्थल पर बने मंदिर में स्वयं को बंद कर  अंदर से ताला लगा लिया। और आत्मदाह की धमकी देने लगे।

हाथ में पेट्रोल की बोतल देख कर पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। फायर सर्विस कर्मचारियों ने पानी की बौछार डालकर उन्हें मंदिर से बाहर निकाला। बाद में  गिरफ्तार कर अस्पताल ले गए। बाद में आंदोलकारी संगठनों की मांग पर प्रशासन ने कोई कार्रवाई न करते हुए उन्हें घर भेज दिया था। दो दिन से वह घर पर ही मौजूद थे।

इस बीच, शनिवार देर शाम तबियत खराब होने पर परिजन अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने चेकअप कर मृत करार दिया। मिली जानकारी के मुताबिक पानी की बौछार के बाद वे स्वंय को असहज महसूस कर रहे थे।

आंदोलनकारी सकलानी बीते कई साल से शहीदों की याद में संग्रहालय बनाने की मांग को लेकर आंदोलित थे।
राज्य आंदोलनकारी संगठन के अध्यक्ष प्रदीप कुकरेती, रविंद्र जुगरान,सुरेंद्र कुमार समेत अन्य आंदोलनकारियों ने गहरा दुख जताया।

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.