सेक्स स्कैंडल- पीएम मोदी जी, भाजपा विधायक महेश नेगी ने अश्लील क्लिपिंग बना दुष्कर्म किया

प्रधानमंत्री मोदी को लिखे पत्र में पीड़िता ने सीबीआई व डीएनए जांच की मांग उठाई

तीन पेज के पत्र में अब तक हुए घटनाक्रम का तारीख के साथ सिलसिलेवार पर लिखा

कोर्ट के आदेश के बाद दून पुलिस ने विधायक पर दर्ज किया था 376 व 506 का मुकदमा

भाजपा विधायक महेश नेगी गुड़गांव के अस्पताल में भर्ती

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। देहरादून में भाजपा की कोर कमेटी की बैठक से ठीक पहले दुष्कर्म के आरोप में फंसे भाजपा विधायक महेश नेगी प्रकरण से जुड़ी कड़ियाँ प्रधानमंत्री कार्यालय पहुंचा दी गयी है।

Uttarakhand sex scandal

बीते 45 दिन से सेक्स स्कैंडल की विभिन्न कोणों से चल रही जांच के बीच पीड़िता ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में पूरा लेखा जोखा देते हुए सीबीआई व डीएनए जांच की मांग की है। इस प्रकरण की जांच में सत्ता की छाया भी बार-बार नजर आ रही है।

Uttarakhand sex scandal
अब प्रधानमंत्री का सहारा

पत्र में लिखा है कि द्वाराहाट से भाजपा विधायक महेश नेगी ने 2018 के जून महीने में अपने घर में लगे सीसीटीवी व मोबाइल से अश्लील क्लिपिंग व फोटो बनाने के बाद ब्लैकमेल किया और जबरन शारीरिक संबंध बनाए। 18 मई 2020 को एक बेटी को जन्म दिया। इस बेटी के पिता विधायक महेश नेगी हैं। 45 दिन से बेटी व विधायक के डीएनए जांच की मांग कर रही व देहरादून पुलिस की कार्यवाही से नाखुश पीड़िता ने पुलिस की कार्यवाही पर भी असंतोष जताया है।

Sex scandal uttarakhand

7 रेसकोर्स, दिल्ली के पते पर भेजे गए पत्र में पीड़िता ने विधायक महेश नेगी से हुई पहली मुलाकात से लेकर अब तक हुई पुलिस कार्यवाही का सिलसिलेवार वर्णन किया है। पति दीपक सिंघल से सम्बन्ध विच्छेद और बच्ची की डीएनए जांच के बाद पुलिस की भूमिका पर भी उंगली उठाई है। विधायक नेगी द्वारा अश्लील फोटो व क्लिपिंग बनाकर दुष्कर्म करने, सिपाही हरिओम को बंधक बनाकर झूठे बयान दिलवाने समेत अन्य सभी घटनाओं का भी प्रमुखता से उल्लेख किया है।

Sex scandal uttarakhand

विधायक की पत्नी रीता नेगी द्वारा पीड़िता पर दर्ज कराए मुकदमे के बाद पुलिस के त्वरित एक्शन पर भी पीड़िता ने प्रकाश डाला है।

गौरतलब है कि इस मुद्दे पर लंबी जद्दोजहद व कोर्ट के आदेश के बाद पीड़िता की तहरीर पर 20 दिन बाद विधायक महेश नेगी पर 5 सितम्बर की रात्रि 11 बजकर 23 मिनट पर 376 व 506 का मुकदमा दर्ज किया गया था। शुरुआत में पीड़िता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज न करने वाली देहरादून पुलिस को काफी आलोचना का भी सामना करना पड़ा था। इस मामले में पीड़िता के 164 के बयान भी दर्ज हो चुके हैं। इस मामले में तीन जांच अधिकारी भी बदले जा चुके हैं।

Sex scandal uttarakhand

मौजूदा जांच अधिकारी आशा पंचम विधायक व पीड़िता से जुड़े स्थलों मसूरी, विधायक हॉस्टल व सिनर्जी अस्पताल से दोनों की मौजूदगी के साक्ष्य इकठ्ठा कर चुकी हैं। इन तीनों जगह पर विधायक व पीड़िता के साथ साथ होने के प्रमाण मिले हैं। अब अगले चरण में हल्द्वानी,नेपाल,दिल्ली सहित अन्य इलाकों में जांच टीम जाएगी।

Sex scandal uttarakhand
एक अक्टूबर 2020 को लिखा गया पत्र

इधर, पीड़िता के पीएम मोदी को लिखे 1 अक्टूबर के पत्र के बाद सत्ता में गलियारों में भी हलचल देखी जा रही है। बलात्कार के अभियुक्त विधायक महेश नेगी गुड़गांव के अस्पताल में भर्ती हैं।

Sex scandal uttarakhand

बहरहाल, भाजपा विधायक महेश नेगी पर लगे दुष्कर्म के आरोप के बाद पार्टी को कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के विरोध से भी जूझना पड़ रहा है। दोनों ही दल इस मामले में सत्ता के दुरुपयोग का आरोप जड़ चुके हैं ।

Sex scandal more exclusive stories,plss clik

सेक्स स्कैंडल-पर्चे पर प्रिंट मोबाइल नंबर से पकड़े गए विधायक जी, पीड़िता को लेकर गए थे सिनर्जी अस्पताल ।

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.