महाराज ने मसूरी के जार्ज एवरेस्ट के लिए रवाना किया पहला मोबाइल शौचालय। mobile toilet

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर मोबाइल शौचालय योजना का शुभारंभ


राज्य में 14 स्थानों पर मोबाइल शौचालय प्रस्तावित

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। यात्रा स्थलों पर जहां शौचालय और टॉयलेट नहीं हैं, उन स्थानों पर पर्यटन विभाग ने पर्यटकों के लिए मोबाइल शौचालय स्थापित करने की पहल की है। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर जार्ज एवरेस्ट, मसूरी के लिए पहला मोबाइल शौचालय रवाना किया।

Tourism mobile toilet


उन्होंने कहा कि यात्रियों को सुविधा प्रदान करने के लिए उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद की ओर से चारधाम यात्रा मार्ग पर शौचालयों, पर्यटक सूचना केंद्रों तथा बस शेल्टर का उच्चीकरण किया जा रहा है। प्रथम चरण में 54 शौचालयों का उच्चीकरण एवं आधुनिकरण किया जा चुका है। इनमें देहरादून में 7, टिहरी में 24, रुद्रप्रयाग में 8 और उत्तरकाशी जिले में 15 शौचालय शामिल हैं। जबकि, द्वितीय चरण में पौड़ी एवं चमोली जिले के 37 शौचालयों का उच्चीकरण प्रस्तावित है।

Tourism mobile toilet


पर्यटन मंत्री ने बताया कि अत्याधुनिक मोबाइल शौचालयों को कहीं भी सुविधानुसार लगाया जा सकता है। प्रथम चरण में 5 मोबाइल शौचालयों की व्यवस्था की जा चुकी है। ये मसूरी एवं जॉर्ज एवरेस्ट में लगाए जाने हैं। मोबाइल शौचालय में पुरुष एवं महिलाओं के लिए अलग-अलग व्यवस्था है। महिला शौचालय में 3 और पुरुष शौचालय में 2 सीट एवं एक यूरिनल पोट लगाया गया है। इसमें 2 किलो वाट का सोलर प्लांट भी लगाया गया है, जो मोबाइल शौचालय की बिजली की जरूरत को पूरा करेगा। साथ ही 1000 लीटर पानी का टैंक तथा टैंक को भरने के लिए मोटर की व्यवस्था है।

Tourism mobile toilet

सीवर के कनेक्शन के लिए 750 लीटर क्षमता का टैंक शौचालय में लगाया गया है।
पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि कुल 14 मोबाइल शौचालय खरीदे जाने प्रस्तावित हैं, जिसमें से 5 खरीदे जा चुके हैं। हरिद्वार में चार, जॉर्ज एवरेस्ट मसूरी में पांच और चोपता तुंगनाथ, सतपुली, कौड़ियाला, कण्वाश्रम और कालीमठ में एक-एक शौचालय लगाया जाना प्रस्तावित हैं।एक मोबाइल शौचालय की लागत लगभग 16.5 लाख रुपये है।

Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.