डॉ अनीता रावत को दून में मिली एक और कुर्सी, यू सर्क की निदेशक की अतिरिक्त जिम्मेदारी

उच्च शिक्षा अनुसंधान संस्थान ( यू सर्क) के निदेशक की अतिरिक्त जिम्मेदारी, प्रो दुर्गेश पंत से हटाई यू सर्क की कुर्सी

अविकल उत्त्तराखण्ड

कुछ दिन पूर्व उच्च न्यायालय नैनीताल के आदेश पर तकनीकी विवि के कुलसचिव पद से हटाई गई डॉ अनीता राणा रावत के लिए एक और अतिरिक्त कुर्सी तलाश ली गयी है। 4 सितम्बर के शासनादेश के तहत डॉ अनीता रावत को विज्ञान एवम प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत उत्त्तराखण्ड शिक्षा एवं अनुसंधान केंद्र ( यू सर्क) के निदेशक की अतिरिक्त जिम्मेदार दे दी गयी है। डॉ अनीता रावत उच्च शिक्षा विभाग में जंतु विज्ञान की असिस्टेंट प्रोफेसर हैं और डेपुटेशन में तकनीकी विवि में आयी थी।

आदेश के मुताबिक डॉ अनीता राणा रावत को मौजूदा समय में तकनीकी विवि का कुलसचिव मानते निदेशक की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गयी है। साथ ही शासन ने डॉ अनीता रावत से मूल उच्च शिक्षा विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र की भी अपेक्षा की है।

दरअसल, तकनीकी विवि के कुलसचिव पद पर निर्धारित बीटेक योग्यता नहीं होने के कारण अदालत ने डॉ अनीता रावत को पद से हटा दिया था। लेकिन इस बीच, त्रिवेंद्र सरकार विवि के लिए अम्ब्रेला एक्ट ले आयी। इस एक्ट में तकनीकी विवि में कुलसचिव पद के लिए बीटेक की अनिवार्यता समाप्त कर दी गयी है। इस नए नियम के बाद अनीता रावत की कुलसचिव पद पर स्वतः बहाली मानी जा रही है। ऊपर से यू सर्क के निदेशक का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे प्रो दुर्गेश पंत से यह जिम्मेदारी वापस ले ली है।

ऋषिकेश डिग्री कॉलेज में जंतु विज्ञान की लेक्चरर डॉ अनीता को 18 अगस्त 2017 को 1 साल के डेपुटेशन पर कुलसचिव तकनीकी विवि देहरादून बहज गया था। तीन साल बाद भी डेपुटेशन जारी है।

त्रिवेंद्र सरकार में ऊंची पहुंच के कारण यह संभावना  लगाई ही जा रही थी कि डॉ अनीता राणा रावत का देहरादून में ही बेहतर पुनर्वास होगा। यह आदेश सचिव आर के सुधांशु की ओर से जारी किया गया। हालांकि, यू सर्क में वैज्ञानिक बैकग्राउंड के व्यक्ति की ही नियुक्ति किये जाने का प्रावधान भी है।

डॉ अनीता राणा रावत से जुड़ीं अन्य खबरे, plss clik

..तो डॉ अनीता रावत के लिए फिर हो रही एक अदद कुर्सी की तलाश !

Total Hits/users- 20,13,432

TOTAL PAGEVIEWS- 53,05,099

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *