#

गढ़वाल विवि दीक्षांत समारोह- पासआउट छात्र अब 24 तक करें ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, देखें आदेश

एक दिसम्बर को वर्चुअल मोड में आयोजित होगा आठवां दीक्षांत समारोह

विभिन्न विषयों के लगभग  60 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जायेगा

सुधीर उनियाल/अविकल उत्त्तराखण्ड

श्रीनगर, गढ़वाल।
गढ़वाल केंद्रीय विवि के 1 दिसम्बर को होने वाले आठवें दीक्षांत समारोह के लिए ऑनलाइन आवेदन की डेट बढ़ा दी गयी है। अब स्नातकोत्तर, एमफिल व पीएचडी  फेलो व  गोल्ड मेडलिस्ट स्टूडेंट्स 24 नवंबर तक विवि की वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। पूर्व में यह डेट 24 नवंबर तक बढ़ाई गई थी। विवि के रजिस्ट्रार एन एस पंवार ने यह जानकारी दी।

Garhwal university

समारोह का लाइव प्रसारण सोशल मीडिया (फेसबुक, यूट्यूब, ट्विटर, विश्वविद्यालय वेवसाइट  ) तथा दूरदर्शन से भी किया जायेगा। इस वर्ष विभिन्न विषयों के लगभग  60 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जायेगा।

हेमवंती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय श्रीनगर गढ़वाल की आठवें दीक्षांत समारोह आयोजन समिति की बैठक में आगामी 1  दिसंबर 2020 को आयोजित होने वाले हे.न. ब. ग. वि. वि. के दीक्षांत समारोह की तैयारियों पर चर्चा हुई।  बैठक में दीक्षांत समारोह के कार्यक्रम के स्वरुप पर विचार हुआ तथा समारोह के अतिथियों की जानकारी दी गयी।

Garhwal university

  कोविड 19 आपदा के चलते इस वर्ष दीक्षांत समारोह का आयोजन मूलतः ऑनलाइन माध्यम से किया जायेगा, जबकि विश्वविद्यालय के कुछ अधिकारी सामान्य रूप से भी विश्वविद्यालय के प्रेक्षागृह से आयोजन में उपस्थित रहेंगे।

आठवां दीक्षांत समारोह 2020  “ऑनलाइन शिक्षण एवं प्रतिस्कन्दन/Online education and resilience” विषय (theme) पर  केंद्रित होगा।विगत वर्ष में कोविड १९ से उत्त्पन्न बाधा के उपरांत भी विश्वविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधियां ऑनलाइन माध्यमों से न  केवल जारी रहीं बल्कि विश्वविद्यालय ने अनेक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों का प्रतिनिधित्व करके इस असहज समय की चुनौती को शिक्षा के प्रसार के अवसर में परिवर्तित करने  में सफलता हासिल की। इस दौरान विश्वविद्यालय ने हिमालय के सतत विकास के लिए शिक्षण एवं कौशल को प्राथमिकता देते हुए  अनेक कार्क्रमों का संचालन  किया।

इस दिशा में हिमालय भूभाग की विषम परिस्थितियों एवं समस्याओँ के निराकरण के लिए हिमालयी केंद्रीय विश्वविद्यालयों के संघ का गठन एक महत्वपूर्ण कदम है। वर्तमान समय में कोविड संकट से मुकाबला करने के लिए विश्वविद्यालय के नवाचार प्रकोष्ट ने सेनिटाइज़ेशन टनल तथा यांत्रिकी विभाग ने अल्ट्रावाइलेट चैम्बर के निर्माण भी विश्वविद्यालय की सक्रीय सामाजिक भूमिका के अभिनव प्रयोग के उदाहरण  हैं। कोविड-19 के दौर में  मानव संसाधन विकास मंत्रालय एवं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा “संविधान दिवस” की 70वीं  वर्षगांठ पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की श्रृंखला में हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल  विश्वविद्यालय देश के सभी विश्वविद्यालयों में पहले पायदान पर रहा।

समारोह की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. योगेन्द्र नारायण करेंगे। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अध्यक्ष प्रोफेसर डी. पी सिंह रहेंगे तथा डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ माननीय शिक्षा मंत्री, भारत सरकार समारोह के मुख्य अतिथि होंगे।

कार्यक्रम का आयोजन विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर अन्नपूर्णा नौटियाल के निर्देशन में किया किया जायेगा तथा उनके अलावा इसमें विज़िटर द्वारा नामित सदस्य, विश्वविद्यालय कार्य परिषद् के सदस्य, विभिन्न स्कूलों के डीन, कुलसचिव एवं क्षेत्र के  प्रतिनिधि आदि भाग लेंगें।

मीडिया समिति के संयोजक प्रो एम एम सेमवाल ने बताया कि वे छात्र-छात्राएं जिन्होंने शैक्षणिक सत्र 2019-20 में अपना स्नात्तकोत्तर अथवा एम्. फिल उत्तीर्ण किया हो या 15 नवम्बर 2019 के पश्चात् पीएच डी हासिल की हो वे दीक्षांत समारोह में भाग ले सकते हैं।  दीक्षांत समारोह में ऑनलाइन प्रतिभाग करने हेतु उपरोक्त योग्यता रखने वाले विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय के पोर्टल online.hnb.ac.in पर एक हजार रुपये के शुल्क के साथ  पंजीकरण करना होगा।दीक्षांत समारोह में ऑनलाइन प्रतिभाग करने हेतु पंजीकरण दिनांक 24 नवम्बर 2020 तक हो सकेंगे। प्रतिभाग करने के इच्छुक विद्यार्थियों को वांछित जानकारी विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर दिए गए लिंक में अंकित करनी होगी।  ऑनलाइन दीक्षांत समारोह में प्रतिभाग करने के इच्छुक विद्यार्थियों को पंजीकरण के पश्चात पूर्वाभ्यास कार्यक्रम में प्रतिभाग करना अनिवार्य होगा।  इस हेतु  विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर समय समय पर आवश्यक सूचनाएं जारी की जाएँगी।

बैठक में दीक्षांत समारोह आयोजन समिति के संयोजक प्रो आर सी रमोला, प्रो वाई पी रैवानी, प्रो इंदु खण्डूरी, प्रो एम एम सेमवाल, डॉ विजय कुमार ज्योति, आशुतोष बहुगुणा,  मोहन नैथानी, डॉ सुभाष चन्द्र, डॉ जितेंद्र कुमार, डॉ नरेश राणा, डॉ लक्ष्मण सिंह कण्डारी, डॉ. नागेंद्र रावत,  डा नरेश कुमार आदि ने भाग लिया।

Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news Uttarakhand news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *