UttarakhandDIPR

भारी खतरा- मैदानी जिलों में कोरोना संक्रमण की दर 7 से 10 प्रतिशत के बीच। देखें सर्वे रिपोर्ट

उत्त्तराखण्ड में 13 जिलों में औसतन संक्रमण 5.93 प्रतिशत

केंद्र सरकार ने संक्रमण की दर 5 प्रतिशत से कम रखने के दिये हैं निर्देश

सोशल डेवलपमेंट फ़ॉर कम्युनिटी फाउंडेशन का 15 मार्च से 9 सितम्बर तक किया गया सर्वे

अविकल उत्त्तराखण्ड

कोरोना संक्रमण के ताजे आंकड़े बता रहे है कि उत्त्तराखण्ड में हालात दिनों दिन बिगड़ते जा रहे हैं। नौ सितम्बर तक औसतन कोरोना संक्रमण की दर 5.93 हो गयी है। एक महीने पहले 9 अगस्त को संक्रमण की दर 4.91प्रतिशत थी।

उत्त्तराखण्ड के मैदानी जिलों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बहुत तेजी से बढ़ रही है। मैदानी जिलों में संक्रमण का यह प्रतिशत 7 से 10 प्रतिशत के बीच चल रहा है। जबकि पर्वतीय जिलों में 2 से 5 प्रतिशत के नीचे ही संक्रमण की दर बनी हुई है।

सोशल डेवलपमेंट फ़ॉर कम्युनिटी फाउंडेशन की स्टडी के नतीजे

सोशल डेवलपमेंट फ़ॉर कम्युनिटी फाउंडेशन के 15 मार्च से 9 सितंबर तक किये गए सर्वे में उत्त्तराखण्ड में संक्रमण की दर बहुत तेजी से बढ़ने की ओर इशारा कर रही हैं। तेरह जिलों में औसतन संक्रमण की दर 5.93 प्रतिशत आंकी गयी है।

जबकि भारत सरकार ने सभी राज्यों को संक्रमण की दर 5 प्रतिशत से कम रखे जाने के निर्देश दिए हुए है। फाउंडेशन के अध्यक्ष अनूप नौटियाल लगातार कोरोना संक्रमण के विभिन्न पहलुओं पर शोधपरक स्टडी कर रहे हैं।

नए अध्ययन में यह सीधे तौर पर सामने आयी है कि राज्य के मैदानी जिलों नैनीताल, देहरादून, हरिद्वार और उधमसिंहनगर में कोरोना संक्रमण की दर काफी तेजी से बढ़ रही है बनिस्बत पर्वतीय जिलों के।( देखें चार्ट)

Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews Uttarakhandnews

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content of this site is protected under copyright !!