“कांपते हाथों से उठी शमशीर बगावत करने वालों के सिर को धड़ से अलग कर देती है।”

हरीश समर्थक पूर्व ब्लाक प्रमुख व मौजूदा ज्येष्ठ प्रमुख संजय नेगी ने कार्यकारी अध्यक्ष को दिया जवाब। फेसबुक पोस्ट के जरिये दी चुनौती

कांग्रेस में शेरो-शायरी से शुरू जंग रोचक मोड़ पर

अविकल उत्त्तराखण्ड

देहरादून। उत्त्तराखण्ड कांग्रेस में वार पलटवार का खेल शुरू हो गया है। 27 जुलाई को पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत ने अपने संबोधन में एक शेर के जरिये अपने पुराने गुरू हरीश रावत को निशाने पर लिया था। 35 साल तक हरीश रावत के खासमखास रहे पूर्व विधायक रणजीत रावत के पार्टी दिग्गजों की मौजूदगी में किये गए इस प्रहार से राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गयी थी।

कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत ने यह शेर बोलकर अपने पुराने राजनीतिक गुरू हरीश रावत पर साधा था निशाना

“हौसले उड़ानों की बुनियाद होते हैं लेकिन कांपते हाथों से शमशीर नहीं उठा करती”

तीन दिन बाद रामनगर निवासी ज्येष्ठ ब्लॉक प्रमुख संजय नेगी ने अपनी फेसबुक पोस्ट के जरिये जवाब देने की कोशिश की। उन्होंने लिखा –

“कांपते हाथों से उठी शमशीर  बगावत करने वालों के सिर को धड़ से अलग कर देती है।

पूर्व सीएम हरीश रावत व कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत के वर्षों पुराने साथ का उललेख करते हुए इशारों में की गई टिप्पणी के भी खास मायने निकले जा रहे हैं।

संजय नेगी फेसबुक पोस्ट को आगे बढ़ते हुए लिखते है –

“तेरे हाथों को भी कभी जनहीँ हाथों ने थामा था। नादान पर कैसे सोच लिया तूने कि इन हाथों में ताकत की कमी है।

पोस्ट के साथ 27 जुलाई को देहरादून में कार्यभार संभालने वाले नये अध्यक्ष गणेश गोदियाल व चुनाव अभियान समित्ति के अध्यक्ष हरीश रावत के साथ क्लिक की गई फ़ोटो को भी संजय नेगी ने साझा किया है।

इस जवाब के बाद कांग्रेस में अंदरूनी जंग के और भी तेज होने की उम्मीद है। कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत इस जवाब पर क्या स्टैंड लेते हैं। राजनीतिक हलकों में इस जंग के अगले मोड़ का सभी को बेसब्री से इंतजार है।

Pls clik

काँग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत ने क्या शेर पढ़ा, लिंक पर करिये क्लिक

..जब रणजीत बोले…लेकिन कांपते हाथों से शमशीर (तलवार) नहीं उठा करती

कांग्रेस में उठा तूफान

कांग्रेस में उठा गढ़वाल-कुमायूँ का तूफान,फैसले पर प्रवक्ता की तीखी टिप्पणी

शुगर मिल के जीएम को क्यों किया निलंबित, pls clik

करप्शन के आरोपी जीएम ने मांगी मनचाही पोस्टिंग, हुआ सस्पेंड

अपनी प्रतिक्रिया साझा करे

error: Content of this site is protected under copyright !!